मिलिट्री सेटेलाइटों के डाटा तक पहुंच के लिए अमेरिका के साथ डील साइन करेगा भारत 

अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया के साथ भारत अगले महीने उच्च स्तरीय मालाबार नौसैनिक अभ्यास करेगा. ऑस्ट्रेलिया 2007 के बाद पहली बार इन अभ्यासों में लौट रहा है जब उसकी भागीदारी ने चीन की आलोचना की.

मिलिट्री सेटेलाइटों के डाटा तक पहुंच के लिए अमेरिका के साथ डील साइन करेगा भारत 

नई दिल्ली:

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ (Mike Pompeo) और और रक्षा मंत्री मार्क एस्पर (Mark Esper) की भारत यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच रक्षा क्षेत्र के कई समझौते होने के आसार है. इस फेहरिस्त में एक समझौता ऐसा भी है जिसके तहत भारत अमेरिकी सैन्य उपग्रहों से एक वास्तविक समय के आधार पर सटीक डेटा और स्थलाकृतिक छवियों तक पहुंच प्राप्त कर सकेगा.

इस डेटा को साझा करने का समझौता, बेसिक एक्सचेंज एंड कोऑपरेशन एग्रीमेंट (BECA) तीसरा और अंतिम "फाउंडेशनल" है जो अमेरिका के करीबी अंतरराष्ट्रीय साझेदारों के साथ है. दोनों देशों ने पहले ही सैन्य रसद का आदान प्रदान करने और सुरक्षित संचार को सक्षम करने के लिए समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं.

सोमवार को जारी एक बयान में सरकार ने कहा कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और उनके अमेरिकी समकक्ष मिस्टर एस्पर ने संतोष व्यक्त किया कि इस यात्रा के दौरान BECA पर हस्ताक्षर किए जाएंगे और साथ ही दोनों देशों के सशस्त्र बलों के बीच घनिष्ठ जुड़ाव भी होगा.

उन्होंने सैन्य-से-सैन्य सहयोग के लिए द्विपक्षीय रक्षा की समीक्षा की और इसके साथ ही सुरक्षित संचार प्रणाली और सूचना साझाकरण और सहयोग के संभावित नए क्षेत्रों पर भी चर्चा की.  राजनाथ सिंह ने कहा कि वार्ता भारत-अमेरिका के रक्षा संबंधों और सहयोग में "नया जोश" जोड़ेगी. एस्पर ने अगले महीने के मालाबार अभ्यास में ऑस्ट्रेलिया की भागीदारी का भी स्वागत किया जो कि भारतीय और अमेरिकी नौसेना बलों के बीच सहयोग को मजबूत करने के लिए 1992 में शुरू हुई वार्षिक अभ्यास की एक श्रृंखला है.

अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया के साथ भारत अगले महीने उच्च स्तरीय मालाबार नौसैनिक अभ्यास करेगा. ऑस्ट्रेलिया 2007 के बाद पहली बार इन अभ्यासों में लौट रहा है जब उसकी भागीदारी ने चीन की आलोचना की. पिछले हफ्ते, अमेरिका ने कहा कि वह लद्दाख में भारत-चीन गतिरोध को करीब से देख रहा है और दिल्ली के साथ जानकारी साझा कर रहा है. अमेरिका ने कहा कि वह यह सुनिश्चित करना चाहता था कि स्थिति आगे न बढ़े. 

यह भी पढ़ें- अमेरिका में चुनाव से पहले भारत से कई रक्षा करार संभव, 2+2 वार्ता में हो सकता है ऐलान

माइक पोम्पेओ और मार्क एस्पर अपने भारतीय समकक्षों - राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ 2 + 2 वार्ता के तीसरे संस्करण के लिए भारत में हैं. ये संवाद अमेरिका में राष्ट्रपति चुनावों से ठीक पहले हो रहा है, जिसमें की राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने फिर से चुनाव मैदान में है.

तीसरे चरण की टू प्लस टू वार्ता
यह भारत औऱ अमेरिका के बीच टू प्लस टू स्तर के तीसरे चरण की वार्ता है. टू प्लस टू के तहत दोनों देशों के विदेश मंत्रियों और रक्षा मंत्रियों के बीच रणनीतिक मुद्दों पर वार्ता होती है. अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो औऱ रक्षा मंत्री मार्कटी एस्पर नई दिल्ली में होने वाली इस वार्ता में शामिल होने के लिए भारत रवाना भी हो चुके हैं. भारत की ओर से रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री एस जयशंकर वार्ता में देश का प्रतिनिधित्व करेंगे. यह वार्ता अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा के आठ महीने बाद आयोजित हो रही है. ट्रंप प्रशासन में पोंपियो की अमेरिकी विदेश मंत्री के तौर पर यह चौथी यात्रा है.

Newsbeep

क्षेत्रीय सुरक्षा सहयोग पर भी होगी मंत्रणा
दोनों देश क्षेत्रीय सुरक्षा सहयोग, रक्षा और सूचना साझेदारी, सेनाओं के बीच संवाद और रक्षा कारोबार के मुद्दों पर बात करेंगे. ट्रंप प्रशासन के मुताबिक, BECA करार पर आगे बढ़ते हुए भारत और अमेरिकी सेनाओं के बीच भौगोलिक सूचनाओं की साझेदारी को और मजबूत बनाया गया है. दोनों देशों की सेनाओं और रक्षा मंत्रालयों के बीच रणनीतिक सूचनाओं को साझा करने पर भी बात आगे बढ़ी है. टूप्लसटू वार्ता के दौरान इस करार पर मुहर लग सकती है. इससे पहले सितंबर 2018 में दिल्ली और 2019 में वाशिंगटन में यह वार्ता हो चुकी है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सेनाओं के बीच अहम सूचनाएं साझा हो सकेंगी
BECA करार से अमेरिका अपने सैन्य सैटेलाइट के जरिये संवेदनशील भौगोलिक क्षेत्रों की अहम सूचनाएं तुरंत ही भारत से साझा कर पाएगा. पिछले हफ्ते अमेरिका ने कहा था कि Ladakh में भारत-चीन के बीच गतिरोध पर उसकी पैनी नजर है. वह भारत के साथ सूचनाएं साझा कर रहा है और नहीं चाहता कि हालात और बिगड़ें.