NDTV Khabar

भारतीय सेना का मुख्य टैंक हुआ फेल , चीन अब रूस-कजाखिस्तान और बेलारूस से भिड़ेगा फाइनल में

भारत और चीन सहित 19 देशों ने इस आयोजन में भाग लिया था. आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि भारतीय टीम इसके दो टी 90 टैंकों में गड़बड़ी आने के बाद अगले चरण में नहीं पहुंच पाई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारतीय सेना का मुख्य टैंक हुआ फेल , चीन अब रूस-कजाखिस्तान और बेलारूस से भिड़ेगा फाइनल में

भारतीय सेना का टैंक अंतरराष्ट्रीय ‘टैंक बायथलान’से बाहर हो गया.

खास बातें

  1. टी-90 हैं भारत के मुख्य युद्धक टैंक
  2. रूस में आयोजित हुई थी प्रतियोगिता
  3. चीन,रूस, बेलारूस और कजाखिस्तान के बीच होगा फाइनल
नई दिल्ली: मुख्य लड़ाकू टैंक टी-90में तकनीकी खामी आने के बाद भारतीय सेना की एक टीम रूस में आयोजित अंतरराष्ट्रीय ‘टैंक बायथलान’ से बाहर हो गई. भारत और चीन सहित 19 देशों ने इस आयोजन में भाग लिया था. आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि भारतीय टीम इसके दो टी 90 टैंकों में गड़बड़ी आने के बाद अगले चरण में नहीं पहुंच पाई. यह प्रतियोगिता अलाबिनो रेंजेस में 29 जुलाई को शुरू हुई थी.  इन टैंकों को रूस से 2001 में खरीदा गया था.  इनको भीष्म के नाम से जाना जाता है. अब इन टैंकों को भारत में बनाया जाता है. 

यह भी पढ़ें :  DRDO ने टैंक भेदी मिसाइल 'नाग' का राजस्थान में किया सफल परीक्षण

क्यों फेल हो गए टैंक
इस रेस के शुरुआती चरणों में भारत के 'भीष्म' का प्रदर्शन किया था. लेकिन फाइनल से पहले वाले मुकाबले में इन टैंकों के इंजन में समस्या आ गई. मिली जानकारी के मुताबिक पहले टैंक की बेल्ट टूट गई. इसके बाद एक रिजर्व टैंक को रेस भेजा गया लेकिन कुछ किलोमीटर में ही उसका इंजन ऑयल बह गया और वह रेस से बाहर हो गया.  चीन ने इस रेस में टाइप-96बी टैंकों को भेजा था. वहीं रूस और कजाखस्तान टी-72 और बी3 टैंकों के साथ इस प्रतियोगिता में उतारे थे जबकि बेलारूस ने टी-72 टैंकों के सबसे आधुनिक मॉडल को उतारा था. अब फाइनल में इन्हीं चारों के बीच मुकाबला होगा. 

Video : भारतीय टैंकों की मौजूदगी से चीन खफा
भारत के लिए क्यों है झटका
अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आयोजित हुई इस प्रतियोगिता में भारतीय सेना के सबसे भरोसेमंद टैंकों का इस तरह से फेल हो जाना बड़ा झटका है क्योंकि युद्ध के हालात में सेना इन्हीं टैंकों के ऊपर निर्भर है.  सेना के पास इस समय 800 टी-90एस टैंक हैं. वहीं डीआरडीओ का मानना है कि अर्जुन मार्क-II टैंकों का ऑर्डर देना चाहिए.  डीआरडीओ का दावा है कि इन टैंकों का प्रदर्शन टी-90 एस टैंकों से कहीं ज्यादा अच्छा है. 

इनपुट : भाषा


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement