NDTV Khabar

भारतीय सेना के ब्रिगेडियर ने एक आतंकी की मौत पर दी श्रद्धांजलि, जानें क्‍या है वजह

भारतीय सेना के आधिकारिक फेसबुक पेज पर ब्रिगेडियर पीएस गोथरा की ओर से लिखी श्रद्धांजलि को पोस्ट किया गया है, जिसका शीर्षक है - 'नूर खान नहीं रहे, और यह मेरे लिए निजी नुकसान है.'

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारतीय सेना के ब्रिगेडियर ने एक आतंकी की मौत पर दी श्रद्धांजलि, जानें क्‍या है वजह

भारतीय सेना के आधिकारिक फेसबुक पेज पर ब्रिगेडियर पीएस गोथरा ने लिखी श्रद्धांजलि

खास बातें

  1. ब्रिगेडियर पीएस गोथरा की ओर से लिखी श्रद्धांजलि को पोस्ट की गई
  2. शीर्षक है - 'नूर खान नहीं रहे, और यह मेरे लिए निजी नुकसान है.'
  3. ब्रिगेडियर गोथरा के अनुसार, नूर खान से उनका रिश्ता निजी था
नई दिल्ली: किसी आतंकवादी की मौत पर भारतीय सेना का कोई अधिकारी दुःख जताए, और उसे निजी नुकसान की संज्ञा दे, ऐसा अकल्पनीय है, लेकिन ठीक ऐसा ही हुआ दशकों से आतंकवाद का दंश झेल रहे जम्मू एवं कश्मीर में, जब नूर खान उर्फ गुलाम हसन मलिक की मौत हुई. भारतीय सेना के आधिकारिक फेसबुक पेज पर ब्रिगेडियर पीएस गोथरा की ओर से लिखी श्रद्धांजलि को पोस्ट किया गया है, जिसका शीर्षक है - 'नूर खान नहीं रहे, और यह मेरे लिए निजी नुकसान है.'

शोपियां फायरिंग मामला: सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार ने कहा, सेना के खिलाफ FIR नहीं की जा सकती

परिवार की चौथी पीढ़ी के रूप में भारतीय सेना की सेवा कर रहे ब्रिगेडियर पीएस गोथरा ने बेहद मार्मिक शब्दों में बताया है कि कैसे 1989 में आतंकवादी बन जाने के दो साल बाद नूर खान और उसके साथियों को सुरक्षाबलों ने घेर लिया था, लेकिन वह बचकर भागने की कोशिश में एक इमारत की पहली मंज़िल से कूद गया, और उसका पांव टूट गया. कुछ दूर घिसटकर पहुंचने के बाद उसे NHPC के कुछ कर्मचारियों ने सड़क पर पड़े देखा, और पनाह देकर उसका इलाज करवाया.

टिप्पणियां
मनोहर पर्रिकर ने सर्जिकल स्ट्राइक पर संदेह के लिए कांग्रेस को कोसा, कहा- मुझे सेना से कहना चाहिए था कि राहुल गांधी को साथ ले जाएं

ब्रिगेडियर लिखते हैं, बाद में फरवरी, 1993 में उरी हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट (NHPC) में चीफ इंजीनियर की हैसियत से कार्यरत उनके पिता मेजर जीएस गोथरा (सेवानिवृत्त) को आतंकवादियों के एक अन्य गुट ने किडनैप कर लिया. NHPC कर्मचारियों ने इसके बाद नूर खान से मदद मांगी, जिसने अपने नेटवर्क के ज़रिये न सिर्फ उन्हें ढूंढ निकाला, बल्कि खुद वहां जाकर, अपनी जान खतरे में डालकर उन आतंकवादियों को समझाया, और आधी रात होने तक उनके पिता को सही-सलामत वापस ले आया.
 
 

 




Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement