NDTV Khabar

डोकलाम में मानव श्रृंखला बनाकर आमने-सामने डटी हैं भारत-चीन की सेनाएं

डोकलाम में जारी तनाव के बीच पिछले कम से कम 30 दिन से 350 सैनिक मानव श्रृंखला बनाकर डटे हुए हैं. दोनों देशों की सेनाओं के बीच कुछ ही मीटर का फासला है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
डोकलाम में मानव श्रृंखला बनाकर आमने-सामने डटी हैं भारत-चीन की सेनाएं

डोकलाम में पिछले एक माह से भारत-चीन के बीच तनाव बरकरार है.. (प्रतीकात्मक फोटो)

खास बातें

  1. समुद्र तल से लगभग 4500 मीटर ऊंचे दुर्गम स्थल पर सेना तैनात
  2. मानव श्रृंखला में तैनात जवानों को हर दो घंटे में बदला जाता है
  3. चुंबी घाटी में चीन की गतिविधियां भारत के लिए चिंता का सबब है
कोलकाता: डोकलाम में जारी तनाव के बीच पिछले कम से कम 30 दिन से 350 सैनिक मानव श्रृंखला बनाकर डटे हुए हैं. दोनों देशों की सेनाओं के बीच कुछ ही मीटर का फासला है. नाथुल दर्रे से 15 किमी की दूरी पर दोनों सेनाएं 500 मीटर पर जमी हुई हैं. 6 जून से भारत, भूटान और सिक्किम के तीन बिंदु स्थल (चिकननेक) पर तनाव बरकरार है. भारत मामले का हल निकालने के लिए सभी विकल्पों को आजमा रहा है. 

सूत्रों ने NDTV ने बताया कि चीनी सैनिकों की मानव श्रृंखला के 1 किमी पीछे मानवरहित एरियल व्हीकल या ड्रोन, लगभग 3000 लो और हल्की मशीनरी दिखाई दी है. भारत ने भी चीन की उसी भाषा में जवाब देने के लिए हल्की मशीनरी सैनिकों की मानव श्रृंखला के पीछे तैनात कर दी है. 

समुद्र तल से लगभग 4500 मीटर ऊंचे इस दुर्गम स्थल पर हवा में ऑक्सीजन का लेवल बहुत कम है. मानव श्रृंखला में तैनात जवानों को हर दो घंटे में बदलकर उनके जगह नए जवान तैनात किए जा रहे हैं. 

रक्षा जानकारों के मुताबिक चुंबी घाटी में चीन की गतिविधियां भारत के लिए चिंता का सबब है. यह मानचित्र में हंसिए की तरह का हिस्‍सा है जो भारत के 'चिकन नेक' से ठीक ऊपर स्थित है. अभी इस क्षेत्र में भू-सामरिक लिहाज से भारत बेहतर स्थिति में है लेकिन डोकलाम से डोका ला तक सड़क निर्माण कर चीन, इन देशों के मिलन बिंदु स्‍थल तक पहुंचकर भारत को घेरना चाहता है.
 
वीडियो


उधर, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भारत और चीन की सेना के बीच सिक्किम में जारी गतिरोध के बीच कहा, "अगर चीन सिक्किम पर कब्जा कर लेता है तो यह केंद्र की विफलता होगी. सरकार की कूटनीतिक विफलता के कारण चीन, नेपाल, भूटान, बांग्लादेश जैसे पड़ोसी देशों के साथ संबंध खराब हो रहे हैं." उन्होंने कहा, "पश्चिम बंगाल को इस विफलता का नुकसान उठाना पड़ता है क्योंकि यह इनके बीच में पड़ता है... यह नेपाल, बांग्लादेश और भूटान के लिए प्रवेश द्वार है."   

सिक्किम सेक्टर के डोकलाम क्षेत्र में भारतीय और चीनी सेना के बीच जारी गतिरोध के बीच चीन की सेना ने कहा कि इसने पठारी इलाके में हमले की अपनी क्षमता जांचने के लिए तिब्बत पवर्तीय क्षेत्र में फायरिंग का अभ्यास किया है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement