भारतीय लड़ाकू विमान तेजस का पहली बार हवा में ईंधन भरने का परीक्षण

सूत्रों के मुताबिक, तेजस फाइटर विमान का मध्य-वायु रिफ्यूलिंग का जमीन पर कंप्यूटर से किया गया प्रयोग सफल रहा

भारतीय लड़ाकू विमान तेजस का पहली बार हवा में ईंधन भरने का परीक्षण

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  • तेजस के विकास क्रम में एक बड़ा कदम
  • हवा में ईंधन भरने की जांच की गई
  • कम्प्यूटर द्वारा जमीन पर किया गया परीक्षण
नई दिल्ली:

अपने विकास क्रम में एक बड़े कदम के रूप में भारत में बने तेजस लड़ाकू जेट में पहली बार भारतीय वायु सेना टैंकर विमान से हवा के मध्य ईंधन से भर दिया.

नेशनल फ्लाइट टेस्ट सेंटर के टेस्ट पायलट ग्रुप कैप्टन राजीव जोशी द्वारा उड़ाया गया विमान, एकल इंजन फाइटर की सीमा का विस्तार करके अपना अंतिम ऑपरेशनल क्लीयरेंस (एफओसी) प्रमाण पत्र हासिल करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण पड़ाव पर पहुंच गया है.

यह भी पढ़ें : ताकतवर जंगी जेट बना तेजस, बीवीआर मिसाइल सफलतापूर्वक दागी

मंगलवार को एक बजे के बाद यह परीक्षण 'ड्राई' लिंक शामिल करते हुए आयोजित किया गया. दूसरे शब्दों में, भारतीय वायु सेना के ईएल -78 टैंकर और तेजस लड़ाकू विमान के बीच वास्तव में आदान-प्रदान नहीं किया गया था. यह हवा से हवा में रिफ्यूलिंग की जांच भर थी. ईंधन को टैंकर से लड़ाकू में स्थानांतरित करने के लिए 'वेट' परीक्षणों सहित इस क्षमता को मान्य करने के लिए नौ और परीक्षण आयोजित किए जाएंगे. तेजस में एयर-टू-एयर रिफ्यूलिंग की जांच अंतरराष्ट्रीय एयरोस्पेस सिस्टम प्रमुख कोबम द्वारा डिजाइन की गई है.

यह भी पढ़ें : स्वदेशी लड़ाकू विमान तेजस के नौसेना संस्करण का परीक्षण सफल

सूत्रों के मुताबिक, तेजस सेनानी ने मध्य-वायु रिफ्यूलिंग के कंप्यूटर सिमुलेशन को पूरी तरह से दोहराया जो कि तेजस कार्यक्रम से जुड़े इंजीनियरों द्वारा जमीन पर किया गया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO : जरूरतें पूरी करने में सक्षम अर्जुन और तेजस

भारतीय वायुसेना (आईएएफ) वर्तमान में एक प्रारंभिक ऑपरेटिंग क्लीयरेंस (आईओसी) मानक में निर्मित नौ तेजस लड़ाकू विमानों का संचालन करती है. इन जेटों को तमिलनाडु के सुलूर वायुसेना स्टेशन पर आधारित नंबर 45 स्क्वाड्रन, फ्लाइंग डैगर्स द्वारा उड़ाया जा रहा है.