गलती से पाकिस्तान की सीमा में जाने वाले जवान ने किया सेना छोड़ने का ऐलान, कहा- मुझे शक की नजर से देखा जाता है

चव्हाण को पाकिस्तानी रेंजर्स ने करीब चार महीने तक अपने कब्जे में रखा और बेरहमी से पीटा एवं यातना दी और मरणासन्न हालत में भारत को सौंपा था.

गलती से पाकिस्तान की सीमा में जाने वाले जवान ने किया सेना छोड़ने का ऐलान, कहा- मुझे शक की नजर से देखा जाता है

भारतीय सेना के जवान चंदू चव्हाण.

धुले:

साल 2016 में गलती से पाकिस्तान की सीमा में जाने वाले जवान चंदू चव्हाण ने सेना पर लगातार उसका उत्पीड़न करने का आरोप लगाते हुए कहा कि वह इस्तीफा देने जा रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘जब से मैं पाकिस्तान से लौटा हूं लगातार सेना की ओर से उत्पीड़न किया जा रहा है और मुझे संदिग्ध दृष्टि से देखा जाता है, इसलिए मैंने सेना छोड़ने का फैसला किया है.'

उनके नजदीकी सूत्रों ने बताया कि चव्हाण ने अपना त्याग पत्र अहमनगर स्थित सैन्य टुकड़ी के कमांडर को भेज दिया है. चव्हाण को पाकिस्तानी रेंजर्स ने करीब चार महीने तक अपने कब्जे में रखा और बेरहमी से पीटा एवं यातना दी और मरणासन्न हालत में भारत को सौंपा था. 

अरुणाचल में भारतीय सेना के युद्धाभ्यास का चीन ने किया विरोध

पिछले महीने चव्हाण सड़क हादसे में घायल हो गए थे. उनके चेहरे और खोपड़ी में गंभीर चोटें आई हैं. चार दांत भी टूट गए हैं. भौंह, ओंठ पर भी चोटें आई है और अभी भी वह अस्पताल में भर्ती है. यह हादसा सड़क पर गड्ढे की वजह से तब हुआ जब वह मोटरसाइकिल से अपने गृहनगर बोहरीवीर जा रहे थे. हेलमेट नहीं पहने होने की वजह से अधिक चोटें आईं.

Newsbeep

चीन से विवाद के वक्त भारतीय सेना को डोकलाम पहुंचने में लगते थे सात घंटे, अब सिर्फ 40 मिनट

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: Mi-17 हादसा हमारी गलती, हमारी मिसाइल से गिरा हेलीकॉप्टर: वायुसेना प्रमुख



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)