NDTV Khabar

यासिन भटकल के निकट सहयोगी वकास समेत इंडियन मुजाहिदीन के चार आतंकी गिरफ्तार

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
यासिन भटकल के निकट सहयोगी वकास समेत इंडियन मुजाहिदीन के चार आतंकी गिरफ्तार
नई दिल्ली:

दिल्ली पुलिस ने राजस्थान से बमबारी की अनेक घटनाओं के सिलसिले में वांछित शीर्ष इंडियन मुजाहिदीन आतंकवादी एवं पाकिस्तानी नागरिक जिया उर रहमान उर्फ वकास और उसके तीन सहयोगियों को गिरफ्तार कर चुनाव के दौरान 'जबरदस्त आतंकवादी हमले' को नाकाम करने का दावा किया है।

दिल्ली पुलिस के विशेष आयुक्त (विशेष प्रकोष्ठ) एस एन श्रीवास्तव ने आज यहां पत्रकारों से कहा, 'पाकिस्तान आधारित आईएसआई की ओर से भेजा गया खूंखार आतंकवादी रहमान भारत भर में बमबारियों की श्रंखला के लिए वांछित है।' रहमान उर्फ वकास को शनिवार तड़के अजमेर रेलवे स्टेशन से उस वक्त गिरफ्तार किया गया, जब वह बांद्रा, मुंबई से आई एक ट्रेन से उतरा था।

वकास के बताने पर राजस्थान पुलिस की मदद से उसके तीन सहयोगियों - मोहम्मद महरूफ (21), मोहम्मद वकार अजहर उर्फ हनीफ (21) और साकिब अंसारी उर्फ खालिद (25) को रविवार तड़के उनके घरों से गिरफ्तार किया गया। महरूफ और अजहर जयपुर के निवासी हैं जबकि अंसारी जोधपुर का रहने वाला है।

इस बीच, जामिया नगर के शाहीन बाग इलाके से एक युवक को पूछताछ के लिए ले जाया गया है, क्योंकि वह जयपुर और जोधपुर से गिरफ्तार तीनों के संपर्क में था। पुलिस ने उसकी शिनाख्त सार्वजनिक नहीं की है।

श्रीवास्तव ने कहा, 'हमने जयपुर और जोधपुर से इन तीन लोगों के निवास से भारी मात्रा में विस्फोटक पदार्थ, डेटोनेटर, इलेक्ट्रानिक सॉर्ट-टाइमर बरामद किए। इसके साथ ही, एक बड़ा आतंकवादी हमला टाल दिया गया।' उनसे जब पूछा गया कि क्या आतंकवादियों की भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी को लक्षित करने की योजना थी तो उन्होंने कहा, 'जांच का मौजूदा स्तर इस तरफ इशारा नहीं करता है।'

श्रीवास्तव से जब पूछा गया कि क्या आतंकवादी लोकसभा चुनाव के दौरान किसी राजनेता या किसी रैली पर हमला करने की योजना बना रहे थे, तो उन्होंने कहा, 'चुनाव समेत किसी अहम कार्यक्रम को निशाना बनाया जा सकता था, लेकिन अभी हम जांच के बहुत ही प्रारंभिक चरण में हैं और मैं अभी कोई कयास नहीं लगाना चाहूंगा।' जयपुर और जोधपुर में आतंकवादियों से बरामद किए गए सामान के सिलसिले में विस्फोटक सामग्री अधिनियम के तहत मामले दर्ज किए गए हैं।

श्रीवास्तव ने बताया कि रहमान का कहना है कि उसके अजमेर दौरे का उद्देश्य तीनों आतंकवादियों की तरफ से किसी जबरदस्त हमले की तैयारियों को समन्वय करना और उसकी देखरेख करना था।

पुलिस ने बताया कि रहमान देशी और अन्य विस्फोटकों का विशेषज्ञ है। उसे दिल्ली लाया गया है और एक विशेष अदालत के समक्ष पेश किया गया है जिसने उसे 10 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया है। उससे विस्तृत पूछताछ की जा रही है।

टिप्पणियां


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement