अब थैला, साइकिल और रॉड से घटेंगे रेल हादसे, पढ़ें यह पूरी खबर...

भारतीय रेल के कर्मचारी फिल्म, थैलों, साइकिलों और यहां तक कि एक विशेष तरह के रॉड की मदद सुरक्षा को बढ़ाने का काम करेंगे.

अब थैला, साइकिल और रॉड से घटेंगे रेल हादसे, पढ़ें यह पूरी खबर...

प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  • अब थैला, साइकिल और रॉड से घटेंगे रेल हादसे
  • भारतीय रेल कर्मचारी इनकी मदद से सुरक्षा बढ़ाएंगे
  • फिल्म में क्रासिंग के संदर्भ में गुण एवं दोष की जानकारी दी गई है
नई दिल्ली:

भारतीय रेल के कर्मचारी फिल्म, थैलों, साइकिलों और यहां तक कि एक विशेष तरह के रॉड की मदद सुरक्षा को बढ़ाने का काम करेंगे. पिछले साल हुए रेल हादसों में 19 फीसदी रेल हादसे मानवरहित रेल क्रासिंग पर हुए और अब समस्या के बारे में कर्मचारियों और यात्रियों को अधिक जानकारी देने और इससे निपटने के उपाय समझाने के लिए उत्तर रेलवे ने अब एक फिल्म बनाई है. फिल्म में क्रासिंग के संदर्भ में गुण एवं दोष की जानकारी दी गई है. अब यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है. 

यह भी पढ़ें: चित्रकूट ट्रेन हादसा : इसलिए बेपटरी हुई वास्को-डि-गामा एक्सप्रेस

यह फिल्म उन नवोन्मेषी कदमों में से एक है जो भारतीय रेल ने सुरक्षा के संदर्भ में उठाए हैं. दक्षिणी रेलवे के हुबली खंड ने सुरक्षा के संदर्भ में ‘डाउन साउथ’ नामक रॉड तैयार किया है. हादसे के बाद जब डिब्बों की खिड़की की ग्रिल काटी जाती है तो समय लग जाता है, लेकिन यह रॉड इस काम को कुछ सेकेंड में ही पूरा कर देगा. पटरियों की सुरक्षा के संदर्भ में एक विशेष थैला बनाया गया है जो ट्रैकमेन लेकर चलेंगे. 

VIDEO:  रेलवे को मिलेंगे आधुनिक सुविधाओं से लैस अनुभूति कोच
इसी तरह से एक गश्ती साइकिल भी तैयारी की गई है जो मैकेनिकल विभाग के कर्मचारियों द्वारा मदद के लिए उपलब्ध रहेंगी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com