NDTV Khabar

लद्दाख: लोहे की रॉड लेकर चीनी सेना ने की घुसपैठ, भारतीय जवानों ने रोका तो शुरू कर दी पत्थरबाजी

लद्दाख के वह पेंगोंग झील इलाके में चीन के सैनिक पांच छह गाड़ियां लेकर आए और उसे अपने इलाके में खड़ी कर पैदल पैदल भारतीय इलाके में घुस आए.

5.3K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
लद्दाख: लोहे की रॉड लेकर चीनी सेना ने की घुसपैठ, भारतीय जवानों ने रोका तो शुरू कर दी पत्थरबाजी

डोकलाम के बाद लद्दाख में चीनी सेना ने भारत में घुसने की कोशिश की.

खास बातें

  1. चीन के पेंगोंग झील इलाके में पैदल भारत में घुसे चीनी सैनिक
  2. भारतीय जवानों ह्यूमन चेन बनाकर चीनी सैनिकों को रोका
  3. चीनी सैनिकों ने भारतीय जवानों के साथ हाथापाई भी की
नई दिल्ली: सिक्किम के डोकलाम में टकराव अभी शांत भी नहीं हुआ है कि अब चीन ने लद्दाख में भारतीय सीमा में घुसने की कोशिश की है. मंगलवार सुबह करीब 11 बजे चीन के सैनिक पांच छह गाड़ियां लेकर आए और उसे अपने इलाके में खड़ी कर पैदल पैदल भारतीय इलाके में घुस आए. जिस जगह से चीनी सैनिक भारत में दाखिल हुए वह पेंगोंग झील का इलाका है. चीनी सैनिकों की इस हरकत को देखकर वहां तैनात आईटीबीपी के जवानों ने ह्यूमन चैन बना लिया और उन्हें रोकने लगे. इस दौरान देशों के सैनिकों के बीच हाथापाई भी हुई. यह विवाद आधे घंटे तक चला.

ये भी पढ़ें: : दलाई लामा बोले-भारत, चीन एक दूसरे को हरा नहीं सकते और दोनों को साथ रहना होगा

सेना से जुड़े सूत्रों के मुताबिक भारतीय फौज के विरोध के बाद चीनी सैनिक अपनी सीमा में लौट गए और वहीं से पत्थर फेंकने लगे. चीनी सैनिकों की ओर से फेंके गए पत्थर से आईटीबीपी के कुछ जवानों को चोटें आई हैं. 

ये भी पढ़ें: : भारत के साथ व्यापार युद्ध गहराने की आशंका, चीन के सरकारी मीडिया ने चेताया

चीनी सैनिकों लोहे का रॉड लेकर भी आये थे. आईटीबीपी के जवानों ने उनको लाठियों से रोका, क्योंकि यहां के कुछ इलाकों में जवान गन के साथ पेट्रोलिंग नहीं करते हैं. इसके बाद वे अपने इलाके में वापस चले गए. बताया जा रहा है कि इस इलाके में चीनी सैनिकों की ओर से पत्थर फेंकने की ये पहली घटना है. ये घटना पूर्वी लदाख के पांगोंग झील के फिंगर 4 और फिंगर 5 पोस्ट के पास हुआ हैं.

संभावना है कि बुधवार को इस इलाके में दोनों देशों की सेनाओं के बीच फ्लैग मीटिंग भी हो सकती है, ताकि सरहद पर जारी तनाव को कम किया जा सके. हालांकि इस बारे में अभी तक कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है.

टिप्पणियां
वीडियो: डोकलाम में लंबे समय तक रुकेगी भारतीय सेना, इलाके में तंबू गाड़े


मालूम हो कि पेंगोंग झील के इलाके को दोनों देश अपना-अपना होने का दावा करते रहे हैं. 1990 के दशक में भारत ने इस इलाके पर दावा किया था तो चीनी सेना ने यहां एक सड़क बनाकर इसे अक्साई चीन का हिस्सा बता डाला था. हालांकि बाद में भारत ने इसे अपने नियंत्रण में ले लिया था.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement