NDTV Khabar

फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट पर भारतीय महिला से कपड़े उतराने को कहा गया, सुषमा स्वराज ने रिपोर्ट मांगी

124 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट पर भारतीय महिला से कपड़े उतराने को कहा गया, सुषमा स्वराज ने रिपोर्ट मांगी

विदेशमंत्री सुषमा स्वराज ने फ्रैंकफर्ट मामले में संज्ञान लिया है (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट पर भारतीय महिला से कपड़े उतारने के लिए कहा
  2. सुरक्षा के नाम पर इस जांच को जरूरी बताया गया
  3. महिला ने ऐसा करने से इंकार किया, सुषमा स्वराज ने संज्ञान लिया
बेंगलुरू: 30 साल की भारतीय श्रुति बसप्पा बेंगलुरू से आइसलैंड हवाई यात्रा कर रही थी जब फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट पर सुरक्षाकर्मियों द्वारा जांच के दौरान उन्हें कपड़े उतारने के लिए कहा गया. हालांकि श्रुति के पति जो आइसलैंड से ही हैं, जब पत्नी के जोर देने पर कमरे में आए तो सुरक्षाकर्मियों ने उन दोनों को जाने दिया. इस घटना के बाद श्रुति ने आक्रोश में आकर एक फेसबुक पोस्ट लिखा जिसमें उन्होंने 29 मार्च को हुई इस वारदात का खुलासा करते हुए लिखा 'अगर हमारे साथ कोई यूरोपीय साथी हो तभी हम ब्राउन शक के घेरे से बाहर होते हैं?' इस मामले में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने जर्मनी के भारतीय वाणिज्यदूतावास से रिपोर्ट मांगी है.

श्रुति ने बताया कि उनका पूरा बॉडी स्कैन किया गया लेकिन उसके बावजूद सुरक्षाकर्मी नहीं रुके. श्रुति ने जांचकर्ताओं से कहा कि वह थपथपाकर उनकी जांच कर सकते हैं और निवेदन किया कि ऐसा करते हुए वह सावधानी बरतें क्योंकि उनकी हाल ही में पेट की सर्जरी हुई है. उनके साथ मेडिकल रिकॉर्ड भी मौजूद थे लेकिन सुरक्षाकर्मी नहीं माने.

बसप्पा पिछले छह साल से युरोप में रह रही हैं और उन्होंने इस वारदात को पूरी तरह रंगभेद का मामला बताया जिसकी उन्हें आदत सी पड़ गई थी. लंबी सी लाइन में किसी भी एक को चुनकर बाहर निकालना और उसकी जांच करना उनके लिए नई बात नहीं रही लेकिन श्रुति ने साथ ही यह भी कहा कि इस बार जो हुआ उसने सारी हदें पार कर दी.

पेशे से आर्किटेक्ट श्रुति ने फेसबुक पर लिखा 'मुझसे मेरे कपड़े उतारने के लिए कहा गया. क्या ये कोई नया नियम है? क्या इतना काफी नहीं था कि एक लाइन में से आप अपनी मर्जी से किसी भी व्यक्ति को बाहर निकाल लेते हैं कि अब मैं हाथ ऊपर करके अपने कपड़े उतारे जाने का भी इंतजार करूं? क्या मुझे पैरों को वैक्स करना होगा? क्या मुझे सोच समझकर यात्रा के लिए अंतरवस्त्र खरीदने होंगे जो कि मेरे पति को रिझाने के लिए नहीं, बल्कि एयरपोर्ट पर होने वाले इस तरह के शर्मनाक और घृणा से भरे कृत्य को छुपाने के लिए होंगे जिसे अब नकारा नहीं जा सकता?'

एयरपोर्ट पर श्रुति बसप्पा ने सुरक्षा जांच के लिए अपने कपड़े उतारने से इंकार किया और वह अपने पति को अंदर बुलाए जाने की मांग करती रही. उन्होंने बताया कि अधिकारियों के बात करने का लहज़ा तब बदल गया जब उन्होंने श्रुति के पति को देखा जो कि एक आइसलैंडिक हैं. श्रुति लिखती हैं कि इसके तुरंत बाद पूरी कार्यवाही मामूली जांच में बदलकर रह गई लेकिन सुरक्षा कर्मी के इस रवैये ने 'मुझे और 'परेशान' कर दिया.'

उन्होंने लिखा 'इसके बाद मैं खतरा नहीं रही. मैं सोचने पर मजबूर हो गई कि अगर मैं अकेली होती या मेरे पति यूरोपीय नहीं होते तो क्या होता?' फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट के अधिकारियों ने अभी तक इस मामले में लिखे NDTV के मेल का जवाब नहीं दिया है. लेकिन बसप्पा के फेसबुक पोस्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट के आधिकारिक फेसबुक अकाउंट से प्रतिक्रिया में दिया गया जवाब था कि 'यह सुनकर स्तब्ध हैं. जाहिर है यह कोई स्टैंडर्ड प्रोटोकोल नहीं है. हमें आपसे विस्तृत जानकारी चाहिए होगी. असल में क्या क्या हुआ था? यह कहां और कब हुआ था?'

श्रुति ने NDTV से बातचीत में कहा कि उन्होंने इस मामले में एयरपोर्ट पर आधिकारिक शिकायत दर्ज कर दी थी लेकिन अभी तक उनके पास कोई जवाब नहीं आया है. इससे पहले जनवरी में 33 साल की भारतीय मूल की सिंगापोरियन महिला ने भी शिकायत दर्ज की थी कि फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट पर जर्मन पुलिस ने उन्हें अपने स्तनों को दबाने के लिए कहा था ताकि पता चल सके कि वह बच्चे को दूध पिलाती हैं. दरअसल इस महिला के साथ ब्रेस्ट पंप था लेकिन वह अपने बच्चे के साथ यात्रा नहीं कर रही थी. इस पर जर्मन पुलिस ने महिला से यह साबित करने के लिए कहा कि वह बच्चे को स्तन पान करवाती हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement