कोरोनावायरस के खिलाफ भारत की 'जंग' में अमेरिकी फर्म के योगदान का क्‍या है 'रहस्‍य'

बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप की (BCG) भूमिका तब सामने आई जब सरकार ने विभिन्न एजेंसियों और कोरोनोवायरस लॉकडाउन से हुई मौतों और संक्रमणों की संख्या के बारे में विशेषज्ञों द्वारा अनुमान साझा किया.

कोरोनावायरस के खिलाफ भारत की 'जंग' में अमेरिकी फर्म के योगदान का क्‍या है 'रहस्‍य'

नई दिल्ली:

अमेरिका की कंसल्टिंग फर्म बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप (BCG) कोरोनावायरस (COVID-19) के खिलाफ अपनी लड़ाई में भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय की सहायता कर रहा है, ऐसी जानकारी NDTV को मिली है. प्रबंधन समाधान यानि मैनेजमेंट सॉल्यूशंस पर व्यवसायों और सरकारों को रणनीतिक सलाह देने के लिए मशहूर बीसीजी 50 देशों में अपनी उपस्थिति दर्ज करवा चुका है. इसका मुख्यालय बोस्टन में ही है. इस कंसल्टिंग ग्रुप की वेबसाइट पर वर्तमान महामारी (COVID-19) की  रह पब्लिक हैल्थ क्राइसेज को लेकर इसकी विशेषज्ञता का कोई विशेष उल्लेख नहीं है.

बीसीजी ने एक बयान में कहा 'बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप (भारत) को कोविड 19 के खिलाफ युद्ध की तैयारी में सरकारी हितधारक के साथ काम करने का विशेषाधिकार है. जिसमें परिदृश्य मानचित्रण, योजना प्रतिक्रियाओं और रुझानों का विश्लेषण शामिल है. बीसीजी अपनी नीति के तहत किसी काम की बारिकियों पर टिप्पणी नहीं कर सकता है.'

इस मामले पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. बीसीजी की भूमिका तब सामने आई जब सरकार ने सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय सहित विभिन्न एजेंसियों और  विशेषज्ञों द्वारा अनुमानों को साझा किया, जिसमें लॉकडाउन से होने वाली मौतों और संक्रमणों की संख्या थी. सरकार ने पांच अलग-अलग अनुमानों को साझा किया था, जिनमें से बीसीजी संख्या सबसे ज्यादा थी. परामर्श समूह के अनुमानों में कहा गया है कि 25 मार्च से 15 मई के बीच करीब 36 से 70 लाख मामलों को टाला गया और तालाबंदी के कारण 1.2 से 2.1 लाख लोगों की जान बचाई गई.

ये दूसरों द्वारा दिए गए अनुमानों से लगभग दोगुना थे, जिसमें अनुमान लगाया गया था कि लगभग 14-29 लाख मामलों को टाला गया और कहीं भी 37,000 से 78,000 लोगों की मौत हुई.

हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि इन नंबरों पर बीसीजी कैसे पहुंचे. कई विशेषज्ञों ने हमने यह बात कही कि इस जानकारी को
साझा किया. बीसीजी अनुमानों पर सरकार पूर्वानुमान के आधार का पता लगाने के लिए पर्याप्त विवरण नहीं देती है. एनडीटीवी ने देखा है कि अनुमान लगाने के अलावा, बीसीजी के पास स्वास्थ्य मंत्रालय के COVID-19 नियंत्रण कक्ष में भी तैनात किया गया है. जबकि बीसीजी इंडिया के अध्यक्ष जनमेजय सिन्हा ने मंत्रालय के लिए उनके द्वारा किए जाने वाले काम के विशिष्ट विवरण पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया, उन्होंने पुष्टि की कि स्वास्थ्य मंत्रालय में बीसीजी टीम काम कर रही है.

उन्होंने कहा, "हम इस बारे में बात नहीं करते हैं कि हम किसी भी ग्राहक के साथ क्या कर रहे हैं. लेकिन स्वास्थ्य मंत्रालय में उन्होंने स्वीकार किया है कि एक टीम है जो काम कर रही है."

क्या कहते हैं जानकार
विशेषज्ञों का कहना है कि सरकार द्वारा व्यवसाय परामर्श फर्मों का उपयोग सामान्य समय में असामान्य नहीं है, लेकिन यह काफी अभूतपूर्व है. पूर्व केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव, सुजाता राव ने कहा कि दिसंबर 2010 तक मंत्रालय में उनके कार्यकाल के दौरान ऐसा नहीं हुआ था. "हमने कभी भी किसी भी विदेशी, या यहां तक कि भारतीय प्रबंधन कंसल्टेंसी फर्मों को वहां जाने की अनुमति नहीं दी है. हमने हमेशा डब्ल्यूएचओ (विश्व स्वास्थ्य संगठन) के साथ काम किया है.

हमने हमेशा सीडीसी (अमेरिकी सरकार के रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र) जैसे संगठनों से अनुरोध किया है कि वे आएं और हमारी मदद करें. लेकिन न तो HIV- एड्स में और न ही किसी भी वायरल महामारी में हमने H1N1, H5N1 की तरह
सामना किया है, या उस मामले के लिए, पोलियो कार्यक्रम में क्या हमारे पास कभी भी ऐसी कोई व्यवस्था है, जहां इस तरह की कंसल्टेंसी फर्में मंत्रालय के नियंत्रण कक्ष के भीतर काम कर रही हों, "

एक व्यावसायिक भूमिका पर सवाल
बीसीजी इंडिया के अध्यक्ष जनमेजय सिन्हा ने कहा, 'हम दावा नहीं करते हैं कि हम महामारी विज्ञानी है. लेकिन हम निश्चित रूप से जानते हैं कि संकट सुधार क्या होने चाहिए. हम कंपनियों, सरकारों के साथ काम करते हैं. और इनमें से कुछ ऐसी चीजें हैं जिनके लिए अनुशासन की आवश्यकता होती है, और वह है अच्छा परामर्श और कौशल. क्योंकि आपको समस्या को हल करने में सक्षम होने की आवश्यकता है, इसलिए आपको एक कार्यसूची बनाने की आवश्यकता है, ”

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इस बारे में कि क्या स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ रिश्ते में एक व्यावसायिक भूमिका थी, सिन्हा ने कहा, "मुझे आपके साथ
ईमानदार होना चाहिए, मैं अपनी एंजेजमेंट्स के बारे में बात नहीं कर सकता. हमें इसकी अनुमति नहीं है."

निजी फर्म, सार्वजनिक महामारी: हितों का टकराव?