NDTV Khabar

महिला ने मरते-मरते भी चार लोगों को दिया जीवनदान, लोग हुए प्रेरित, 23 लोगों ने किया यह काम....

इन अंगों को ग्रीन कॉरिडोर बनाकर सम्बंधित अस्पतालों तक पहुंचा दिया गया है.

216 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
महिला ने मरते-मरते भी चार लोगों को दिया जीवनदान, लोग हुए प्रेरित, 23 लोगों ने किया यह काम....

महिला ने मरते-मरते भी चार लोगों को दिया जीवनदान- प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  1. 42 वर्षीय महिला अर्चना डोसी ब्रेन हैमरेज से गुजर गईं
  2. उनके अंगों से चार जरूरतमंद मरीजों को नयी जिंदगी मिल गई
  3. अंगों को ग्रीन कॉरिडोर बनाकर सम्बंधित अस्पतालों तक पहुंचाया गया
इंदौर: कुछ लोग मौत जैसी खौफनाक हकीकत को भी खूबसूरत मोड़ दे जाते हैं. ब्रेन हैमरेज के कारण दुनिया को अलविदा कहने वाली 42 वर्षीय महिला अर्चना डोसी के अंगदान से इंदौर में चार जरूरतमंद मरीजों को नयी जिंदगी मिल गयी. इस प्रेरक वाकये का असर यह हुआ कि पिछले 21 महीने के दौरान दिमागी रूप से मृत घोषित किये जाने के बाद अंगदानी बनने वाले लोगों की तादाद बढ़कर 23 पर पहुंच गयी.

इंदौर संभाग के आयुक्त (राजस्व) और इंदौर सोसायटी फॉर ऑर्गन डोनेशन के अध्यक्ष संजय दुबे ने बताया कि अर्चना डोसी (42) को 23 जुलाई को ब्रेन हैमरेज के बाद स्थानीय मेदांता हॉस्पिटल में भर्ती किया गया था. डॉक्टरों ने उनकी हालत पर सतत निगरानी के बाद उन्हें कल 25 जुलाई को दिमागी रूप से मृत घोषित कर दिया.

यह भी पढ़ें- दिल्ली : माता-पिता ने सात दिन के बच्चे के अंग दान कर पेश की मिसाल

उन्होंने बताया कि अर्चना इंदौर से करीब 210 किलोमीटर दूर मंदसौर कस्बे की रहने वाली थीं. गृहिणी के परिवार में किराना व्यापारी पति राकेश डोसी के अलावा एक पुत्र और एक पुत्री हैं. उनके परिजनों को बताया गया, तो वे शोक में डूबे होने के बावजूद अपनी दिवंगत स्वजन के अंगदान के लिये राजी हो गये.दुबे ने बताया अर्चना के मृत शरीर से निकाले गये दिल, लीवर और दोनों किडनी को तीन निजी अस्पतालों में भर्ती चार मरीजों के शरीर में प्रत्यारोपित किया जाना है. इन अंगों को ग्रीन कॉरिडोर बनाकर सम्बंधित अस्पतालों तक पहुंचा दिया गया है.

#MoretoGive : 'मेरी पत्नी के सफल लीवर ट्रांसप्लांट से पूरे परिवार ने राहत की सांस ली है'

पिछले 21 महीने में दिमागी रूप से मृत 23 मरीजों का अंगदान
ग्रीन कॉरिडोर बनाने से तात्पर्य सड़कों पर यातायात को इस तरह व्यवस्थित करने से है कि अंगदान से मिले अंगों को एम्बुलेंस के जरिए कम से कम समय में जरूरतमंद मरीजों तक पहुंचाया जा सके. संभाग आयुक्त ने बताया कि अर्चना की दोनों आंखों और त्वचा को दो अलग-अलग संस्थाओं ने प्रत्यारोपण के लिये हासिल कर सुरक्षित रख लिया है जिससे दो और जरूरतमंद मरीजों को नयी जिंदगी मिल सकेगी.

अधिकारियों के मुताबिक, इंदौर में पिछले 21 महीने में दिमागी रूप से मृत 23 मरीजों का अंगदान हो चुका है. इससे मिले दिल, लीवर, किडनी, आंखों और त्वचा के प्रत्यारोपण से मध्यप्रदेश के साथ दिल्ली, हरियाणा और महाराष्ट्र में करीब 130 जरूरमंद मरीजों को नये जीवन की अनमोल सौगात मिली है.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement