NDTV Khabar

भारत-चीन बार्डर पर तनातनी, PM नरेंद्र मोदी ने 'जेम्स बांड' को शांतिदूत बनाकर भेजा बीजिंग

तनातनी के माहौल में बीजिंग में ब्रिक्स देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की बैठक होनी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल को इस सम्मेलन में भेजा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारत-चीन बार्डर पर तनातनी, PM नरेंद्र मोदी ने 'जेम्स बांड' को शांतिदूत बनाकर भेजा बीजिंग

भारत-चीन बॉर्डर पर जारी तनाव पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गंभीरता से नजरें गड़ाए हुए हैं.

खास बातें

  1. भारत-चीन बॉर्डर पर एक फिर से उभर आया है सीमा विवाद
  2. चीनी सेना और मीडिया लगातार भारत को उकसा रही है
  3. तनातनी के बीच बीजिंग जाएंगे सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल
नई दिल्ली: भारत और चीन बॉर्डर पर पिछले कुछ समय से तनातनी का माहौल है, हालांकि दोनों ओर से अभी तक गोली नहीं चली है. चीनी मीडिया लगातार भ्रम फैलाकर भारत को उकसा रहा है. वहां की सेना भारत से सटे तिब्बत के इलाके में युद्धाभ्यास कर शक्ति प्रदर्शन भी कर रही है. वहीं भारत सरकार सब्र का सहारा लेकर चीन के मंसूबों पर पानी फेर रहा है. भारत सरकार इस मसलू को कूटनीतिक स्तर से निपटाने के प्रयास में जुटा है. इसी कड़ी में अमेरिका ने कहा है कि डोकलाम में सैन्य गतिरोध पर तनाव घटाने के लिये किसी तरह के बल प्रयोग के बजाय भारत एवं चीन को सीधी बातचीत करनी चाहिए. चीनी और भारतीय सैनिक तिब्बत के सुदूरवर्ती दक्षिणी हिस्से के डोकलाम में उस क्षेत्र में आमने सामने हैं जिस पर भारत का सहयोगी भूटान भी दावा करता है. विवादित क्षेत्र में भारतीय सैनिकों ने चीनी सेना को सड़क बनाने से रोका था.

ये भी पढ़ें: सामने आई पीएम नरेंद्र मोदी की टेंशन बढ़ाने वाली रिपोर्ट

तनातनी के माहौल में बीजिंग में ब्रिक्स देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की बैठक होनी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल को इस सम्मेलन में भेजा है. जानकार मानते हैं कि भारत के जेम्स बांड कहे जाने वाले अजित डोभाल के इस दौरे से भारत-चीन रिश्ते में आई गरमाहट में शीतलता लाने का काम करेगी. 

ये भी पढ़ें: भारत की ताकत बढ़ी, पढ़ें- अल्ट्रा लाइट 145 M-777 तोपों की 5 बड़ी खासियतें

27-28 जुलाई को चीन जाएंगे डोभाल: चीनी विश्लेषक के मुताबिक, ब्रिक्स राष्ट्रों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की बैठक के सिलसिले में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की बीजिंग यात्रा भारत और चीन के बीच दोकलाम में जारी सैन्य गतिरोध को कम करने में महत्वपूर्ण हो सकता है. डोभाल को इस बैठक के लिये 27-28 जुलाई को चीन आना है.

ये भी पढ़ें: समंदर में भारत को घेरने के लिए चीन-पाकिस्तान ने बिछाया ये 'जाल'

बैठक की मेजबानी उनके चीनी समकक्ष एवं स्टेट काउंसलर यांग जीइची करेंगे. यह बैठक ब्रिक्स देशों - ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका- के सितंबर में शियामेन शहर में प्रस्तावित शिखर सम्मेलन से पहले अधिकारियों की बैठकों की सीरीज का एक हिस्सा है. शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हिस्सा लेने की उम्मीद है.
ajit doval
राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल.

ये भी पढ़ें: पोखरण में सेना कर रही है अमेरिका से आई अल्ट्रा-लाइट होवित्जर तोपों का परीक्षण

युद्ध नहीं बातचीत से शांति लाएंगे डोभाल:जेम्स बांड सीरीज की हॉलीवुड फिल्मों में जेम्स बांड दुश्मनों पर अटैक कर शांति बहाली का काम करता दिखता था. वहीं भारत के जेम्स बांड कहे जाने वाले अजित डोभाल बातचीत से दोनों देशों के बीच शांति बहाल का रास्ता तलाशेंगे. थिंकटैंक 'चाइना रिफॉर्म फोरम' के एक रिसर्च फेलो मा जियाली ने कहा कि डोभाल का दौरा अहम हो सकता है और भारत तथा चीन के बीच तनाव कम करने का एक अवसर बन सकता है.

चीनी अखबार में भारत विरोधी बयानबाजी: उनकी यह टिप्पणी आज कम्युनिस्ट पार्टी मीडिया ग्रुप के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स में प्रकाशित एक लेख में आई है जो सामान्य तौर पर सत्ताधारी पार्टी के नजरिये को व्यक्त करता है. दोनों देशों में तनाव के बीच इस अखबार में हाल के हफ्तों में कई बार भारत विरोधी बयानबाजी हुई है.

ये भी पढ़ें: डोकलाम तो बहाना है, क्या इन 6 वजहों से घबरा रहा है चीन​

तिब्बत के दक्षिणी हिस्से में स्थित दोकलाम में चीनी और भारतीय सैनिक एक महीने से ज्यादा समय से आमने-सामने डटे हैं. दोकलाम पर भारत का सहयोगी देश भूटान भी अपना दावा जताता है. भारतीय सैनिकों ने इस विवादित क्षेत्र में चीनी सेना को सड़क बनाने से रोका था.

भारत-चीन के बीच सीमा विवाद पर 19 दौर की वार्ता: डोभाल और जीइची भारत और चीन सीमा वार्ता के लिये अपने अपने देश के विशेष प्रतिनिधि हैं. दोनों पक्ष सीमा विवाद को हल करने के लिये अब तक 19 दौर की वार्ता कर चुके हैं.

चीनी अधिकारियों ने कहा कि डोभाल और जीइची के बीच सिक्किम सेक्टर के दोकलाम इलाके के गतिरोध को दूर करने के लिये अनौपचारिक बातचीत हो सकती है.

वीडियो: 'डोकलाम मामले पर दुनिया भारत के साथ'


मा ने कहा कि डोभाल के दौरे के दौरान चीन इस उम्मीद के साथ मुद्दा उठाएगा कि वह तनाव कम करने के लिए उपाय कर सकते हैं. भारत अपने सैनिकों को वापस बुलाने के लिये सौदेबाजी के तौर पर कुछ अनुरोध कर सकता है.


वीडियो: चीन बॉर्डर के पास भारत ने तैनात किए 100 टैंक


टिप्पणियां
बहरहाल, उन्होंने आगाह किया कि अगर दोनों पक्ष इस मुद्दे पर किसी सहमति तक नहीं पहुंच पाते हैं तो चीन और भारत के बीच के रिश्ते ज्यादा बिगड़ सकते हैं.

इनपुट: एजेंसी
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement