‘फिट इंडिया अभियान’ के प्रति जागरूकता के लिए ITBP और खेल मंत्रालय की पहल, 'फिट इंडिया-मिशन 200 km'’

आईटीबीपी का यह फिटनेस मार्च भारत सरकार के फिट इंडिया मूवमेंट के प्रति ज्यादा से ज्यादा जागरूकता फ़ैलाने के उद्देश्य से आयोजित हो रहा है.

‘फिट इंडिया अभियान’ के प्रति जागरूकता के लिए ITBP और खेल मंत्रालय की पहल, 'फिट इंडिया-मिशन 200 km'’

जैसलमेर:

‘फिट इंडिया' अभियान के अंतर्गत भारत तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) युवा मामलों और खेल मंत्रालय के साथ मिलकर जैसलमेर, राजस्थान में 200 किलोमीटर राष्ट्रीय एकता मार्च का एक विशेष आयोजन ‘फिट इंडिया-मिशन 200 किलोमीटर' आयोजित किया है.

शनिवार को इस मार्च को युवा मामले और खेल राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार)  किरेन रिजीजू ने फ्लैग ऑफ किया.  अपनी तरह के इस पहले 200 किलोमीटर के फिटनेस मार्च में डीजी आईटीबीपी एसएस देसवाल के नेतृत्व में आईटीबीपी के अलावा अन्य पुलिस बलों- सीमा सुरक्षा बल, केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल, एनडीआरएफ़, आरएएफ़, असम राइफल्स, एन एस जी के साथ राजस्थान पुलिस, मध्य प्रदेश पुलिस आदि के लगभग 100 अधिकारी भाग लेंगे.

अभिनेता और स्टंट परफ़ॉर्मर तथा मार्शल आर्टिस्ट विद्युत् जामवाल भी इस मार्च का हिस्सा हैं.

8s5q6qcg

इस 3 दिन के फिटनेस मार्च अभियान को सरदार पटेल के जन्म दिवस पर आयोजित राष्ट्रीय एकता दिवस के मौके पर लांच किया किया गया  और राष्ट्रीय एकता का सन्देश इसका लक्ष्य है. जैसलमेर में तनोट मंदिर से 7 किलोमीटर दूर नाथुवाला गांव से इसकी शुरुआत हुई और यह सकिरेवाला, भुट्टेवाला, कटोच होकर इंदिरा गांधी नहर के साथ साथ होते हुए 200 किलोमीटर का पैदल रास्ता तय करते हुए रिवर डिवीज़न 1458 पॉइंट पर यह 3 दिनों का फिटनेस मार्च 2 नवम्बर, 2020 को समाप्त होगा.

इस मार्ग पर 50 किलोमीटर से ज्यादा का रास्ता रेगिस्तान में रेत के टीलों से होकर गुजरेगा . इस मार्ग का अधिकतर हिस्सा अंतर्राष्ट्रीय सीमा से लगा हुआ है जिसके आस पास कई ऐतिहासिक लड़ाइयां हुई हैं . रास्ते में किशनगढ़ का मशहूर किला भी है.  इस रूट के दूसरा हिस्सा इंदिरा गांधी नहर के साथ साथ चलता है.


आईटीबीपी का यह फिटनेस मार्च भारत सरकार के फिट इंडिया मूवमेंट के प्रति ज्यादा से ज्यादा जागरूकता फ़ैलाने के उद्देश्य से आयोजित हो रहा है. आईटीबीपी प्रारंभ से ही फिट इंडिया के विभिन्न अभियानों में अग्रणी भूमिका निभाती रही है और इस साल फिट इंडिया फ्रीडम रन में बल को नोडल एजेंसी नामित किया गया था. एस एस देसवाल, डी जी आईटीबीपी लगभग 2 वर्षों में इससे पहले दर्ज़नों ऐसे मार्च का नेतृत्व कर चुके हैं जिनमें हिमालय से रेगिस्तान और उत्तर पूर्व से समुद्र के किनारों पर आयोजित मार्च शामिल हैं.  इसमें लिपुलेख, सांगला घाटी में 103 किलोमीटर, औली तपोवन, गंगोत्री तपोवन, भुज, कोणार्क पुरी, राजस्थान और पंजाब सीमा, जोधपुर बीकानेर में मिशन 100, और फूलों की घाटी आदि रूट शामिल हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


ये सभी मार्च ‘फिट इंडिया मिशन' की जागरूकता के तौर पर आयोजित किये गए जिससे युवाओं और आम जन मानस में शारीरिक तंदुरुस्ती के प्रति सकारात्मक भावना उत्पन्न हुई है. इन अभियानों के दौरान प्लोगिंग और स्वच्छता अभियान भी आयोजित किये जाते रहे हैं.