वायु प्रदूषण के कारण सर्दी में बढ़ सकते हैं कोरोना से मौत के मामले : ICMR

दिल्ली सहित उत्तर भारत में हर वर्ष सर्दी के मौसम में वायु गुणवत्ता (Air quality) काफी खराब स्तर तक गिर जाती है. विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि वायु प्रदूषण के उच्च स्तर से कोविड-19 महामारी की स्थिति और खराब हो सकती है.

वायु प्रदूषण के कारण सर्दी में बढ़ सकते हैं कोरोना से मौत के मामले : ICMR

दिल्‍ली सहित पूरे नॉर्थ इंडिया में सर्दी के मौसम में वायु प्रदूषण बढ़ जाता है (फाइल फोटो)

खास बातें

  • ICMR के महानिदेशक बलराम भार्गव ने दी जानकारी
  • वायु प्रदूषण का कोरोना से होने वाली मौतों से है सीधा संबंध
  • कोरोना, वायु प्रदूषण से बचने का सबसे अच्‍छा उपाय मास्‍क पहनना
नई दिल्ली:

Covid-19 Pandemic: यूरोप और अमेरिका में शोध से पता चला है कि अधिक समय तक वायु प्रदूषण (Air Pollution) का सामना करने से कोविड-19 के कारण मौत (Death due to corona virus) के मामले बढ़ सकते हैं. यह जानकारी मंगलवार को इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के महानिदेशक बलराम भार्गव (Balram Bhargava) ने दी. उन्होंने कहा कि अध्ययन में पता चला है कि ‘‘वायरस के कण पीएम 2.5 पार्टिकुलेट मैटर के साथ हवा में रहते हैं लेकिन वे सक्रिय वायरस नहीं हैं.'' भार्गव ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘यूरोप और अमेरिका में प्रदूषित क्षेत्रों और लॉकडाउन के दौरान मृत्यु दर की तुलना की गई और प्रदूषण के साथ उनका संबंध देखा तो पाया कि कोविड-19 से होने वाली मृत्यु में प्रदूषण का स्पष्ट योगदान है और इन अध्ययनों से यह अच्छी तरह साबित होता है.'' 

लक्षणरहित कोविड-19 पीड़ित जल्दी खो देते हैं एन्टीबॉडी : अध्ययन

दिल्ली सहित उत्तर भारत में हर वर्ष सर्दी के मौसम में वायु गुणवत्ता (Air quality) काफी खराब स्तर तक गिर जाती है. विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि वायु प्रदूषण के उच्च स्तर से कोविड-19 महामारी की स्थिति और खराब हो सकती है. भार्गव ने कहा कि यह साबित तथ्य है कि प्रदूषण का संबंध मौत से है और कहा कि कोविड-19 और प्रदूषण से बचाव का सबसे सस्ता तरीका मास्क पहनना है. उन्होंने कहा कि ज्यादा प्रदूषण वाले शहरों में महामारी नहीं होने के बावजूद लोग मास्क पहनते हैं.आईसीएमआर प्रमुख ने कहा, ‘‘कोविड-19 दिशानिर्देशों में चाहे मास्क पहनना हो, सामाजिक दूरी का पालन करना हो, सांस लेने का तरीका हो और हाथ की साफ-सफाई करनी हो, हमें उसमें ज्यादा खर्च नहीं करना पड़ता. मास्क पहनने का दोहरा फायदा है क्योंकि यह कोविड-19 के साथ ही प्रदूषण से भी बचाता है.''

वायु प्रदूषण कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई को कर सकता है कमजोर, वैज्ञानिकों ने कहा

भारत में बच्चों में कोरोना वायरस संक्रमण के बारे में उन्होंने कहा कि देश का संपूर्ण आंकड़ा दर्शाता है कि कोविड-19 के कुल संक्रमित मामलों में से केवल आठ फीसदी ही 17 वर्ष से कम उम्र के हैं. भार्गव ने कहा, ‘‘पांच वर्ष से कम उम्र में संभवत: एक फीसदी से कम हैं.'' उन्होंने कहा कि इस तरह के साक्ष्य हैं कि बच्चे ‘‘ज्यादा संक्रमण फैलाने वालों (सुपर स्प्रेडर) के बजाय संक्रमण फैलाने वाले (स्प्रेडर) हो सकते हैं.'' एक सवाल के जवाब में भार्गव ने कहा कि भारत में अभी तक एक भी मामला सामने नहीं आया है जिसमें कोविड-19 रोगियों में कोवासाकी बीमारी हो. कावासाकी स्वत: प्रतिरोधक बीमारी है जो पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों को प्रभावित करती है.

Newsbeep

क्या अगले साल तक मिल पाएगी कोरोना की असरदार वैक्सीन?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com