पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना (POMIS) में निवेश देता है बेहतर रिटर्न, जाने उससे जुड़ी महत्वपूर्ण बातें

भारत में निवेश के लिए पोस्ट ऑफिस एक पुराना और बेहतर माध्यम रहा है. पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना में निवेश पर 7.6 प्रतिशत की दर से ब्याज प्रदान करता है

पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना (POMIS) में निवेश देता है बेहतर रिटर्न, जाने उससे जुड़ी महत्वपूर्ण बातें

POMIS में चार रुपये तक का निवेश कर सकते हैं

खास बातें

  • POMIS में निवेश पर 7.6 प्रतिशत ब्याज ग्राहकों को मिलता है
  • न्यूनतम 1,000 रुपये का निवेश कर आप खाता खोल सकते हैं
  • ज्वाइंट एकाउंट में अधिकतम 9 लाख रुपये आप निवेश कर सकते हैं
नई दिल्ली:

भारत में निवेश के लिए पोस्ट ऑफिस एक पुराना और बेहतर माध्यम रहा है. पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना (POMIS) में निवेश पर 7.6 प्रतिशत ब्याज ग्राहक को मिलता है. छोटी बचत योजनाओं जैसे डाकघर मासिक आय योजना एकाउंट पर लागू ब्याज दरों की वर्तमान में वित्त मंत्रालय द्वारा प्रत्येक तिमाही में समीक्षा की जाती है. 31 मार्च को समाप्त होने वाली तिमाही के लिए भी वित्त मंत्रालय ने ब्याज के मौजूदा स्तर को बनाए रखा है. पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना एकाउंट सरकार द्वारा संचालित नौ बचत योजनाओं में से एक है.

पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना खाता से जुड़े कुछ महत्वपुर्ण बातें है जो आपको जानना जरूरी है

अगर आप चालू वित्त वर्ष की चौथी तिमाही के लिए, पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना खाते में निवेश करते हैं तो आपको  7.6 प्रतिशत की दर से ब्याज मिलेगा. इस खाते पर मिलने वाले ब्याज का भुगतान मासिक रूप से आपके द्वारा खोले गए बचत खाते में किया जाता है.

खाता खोलने के लिए न्यूनतम आप कितना निवेश कर सकते हैं

इंडिया पोस्ट वेबसाइट indiapost.gov.in के अनुसार, पोस्ट ऑफिस की मासिक आय योजना के तहत खाता खोलने के लिए, न्यूनतम 1,000 रुपये का निवेश करना होता है 1,000 रुपये से अधिक की किसी भी राशि का उपयोग खाता खोलने के लिए किया जा सकता है.

पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना खाता में अधिकतम आप कितना निवेश कर सकते हैं

व्यक्तिगत एकाउंट या सिंगल एकाउंट में निवेश के लिए 4.5 लाख रुपये की अधिकतम सीमा लागू की गई है. वहीं ज्वाइंट एकाउंट के लिए यह सीमा 9 लाख रुपये रखी गई है.

पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना एकाउंट आप व्यक्तिगत स्तर पर या संयुक्त रुप से चला सकते हैं.

POMIS में एक से अधिक खाते भी खोले जा सकते हैं, लेकिन निवेश की अधिकतम सीमा को पार नहीं किया जा सकता.

टैक्स फ्री नहीं है यह निवेश

पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना में निवेश को आयकर कानून के सेक्शन 80C के तहत टैक्स फ्री नहीं रखा गया है. POMIS में निवेश में मिलने वाले ब्याज पर ग्राहक को टैक्स देना होता है.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com