NDTV Khabar

फाइनेंशियल फर्म के मालिक ने ऑडियो क्लिप में की सुसाइड की बात, स्टोर के बाहर जुटे सैकड़ों निवेशक, जानें पूरा मामला

कर्नाटक सरकार ने निवेश कंपनी द्वारा हजारों लोगों के साथ कथित रूप से धोखाधड़ी करने से संबंधित मामले की तफ्तीश विशेष जांच दल (SIT) को सौंप दी है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
फाइनेंशियल फर्म के मालिक ने ऑडियो क्लिप में की सुसाइड की बात, स्टोर के बाहर जुटे सैकड़ों निवेशक, जानें पूरा मामला

बेंगलुरु में IMA ज्वेल्स के बाहर लगी निवेशकों की भीड़.

बेंगलुरु:

कर्नाटक सरकार ने निवेश कंपनी द्वारा हजारों लोगों के साथ कथित रूप से धोखाधड़ी करने से संबंधित मामले की तफ्तीश विशेष जांच दल (SIT) को सौंप दी है. मुख्यमंत्री कार्यालय ने यह जानकारी दी. बता दें कि एक ऑडियो क्लिप सामने आई थी जिसमें 'आई मॉनेटरी एडवाइजरी ज्वेल्स' (IMA) का कथित संस्थापक और प्रबंध निदेशक मोहम्मद मंसूर खान यह कहते हुए सुना जा सकता है कि वह भ्रष्टाचार से ऊब चुका है और खुदकुशी करने जा रहा है. व्यापक रूप से प्रसारित हो रहे इस ऑडियो क्लिप में अधिकारियों पर 400 करोड़ रुपये रिश्वत लेने और इसमें कांग्रेस विधायक रोशन बेग के शामिल होने का आरोप लगाया है. उधर, रोशन बेग का कहना है कि वह इस फर्म का हिस्सा नहीं थे और कानूनी कार्रवाई करेंगे.

इसके बाद अपने पैसों को लेकर फिक्रमंद सैकड़ों निवेशक सोमवार को कंपनी के स्टोर में घुस गए थे. खबरों के अनुसार, पुलिस को निवेशकों से आईएमए ज्वेल्स और मंसूर खान के खिलाफ हजारों शिकायतें मिली हैं. इसके निवेशक, रेहड़ी वाले, छोटे व्यापारी और मध्यम तथा निम्न मध्य वर्गीय लोग हैं. फिलहाल, मंसूर खान फरार है.


मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट किया कि आईएमए ज्वेल्स की धोखाधड़ी की गंभीरता को देखते हुए तहकीकात की जिम्मेदान विशेष जांच दल को सौंप दी गई है और इस बाबत पुलिस महानिदेशक को निर्देश दे दिए गए हैं. इससे पहले मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने राज्य के गृह मंत्री एमबी पाटिल के साथ इस मसले पर चर्चा की थी और जल्द से जल्द मामले को निपटाने तथा दोषियों के खिलाफ कार्रवाई सुनिश्चित करने के निर्देश दिए थे. दिन में, कांग्रेस के मुस्लिम नेताओं के प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री और गृह मंत्री से मुलाकात कर मामले को एसआईटी को सौंपने की गुजारिश की थी.

टिप्पणियां

इस प्रतिनिधिमंडल में अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री ज़मीर अहमद खान और अन्य शामिल थे. पाटिल से मिलने के बाद ज़मीर अहमद खान ने पत्रकारों से कहा कि गरीब लोगों ने शादी, शिक्षा, घर बनाने के लिए अपना पैसा निवेश किया था. हमने एसआईटी जांच की मांग की है. प्रदेश भाजपा प्रमुख बीएस येदियुरप्पा ने भी मांग की है कि तत्काल कंपनी के मालिक को पकड़ा जाए तथा जरूरी कार्रवाई की जाए, ताकि निवेशकों का पैसा वापस मिल सके. 
इस बीच, भाजपा और कुमारस्वामी के बीच ट्विटर पर वाक युद्ध छिड़ गया, क्योंकि भगवा दल ने मंसूर खान के साथ मुख्यमंत्री की तस्वीर ट्वीट कर दी. वहीं, मंसूर खान की एक और कथित ऑडियो क्लिप सामने आई है जिसमें वह बेंगलुरु में होने का दावा कर रहा है और निवेशकों के पैसे लौटाने का वादा कर रहा है.

(इनपुट: भाषा)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement