ऋषि कुमार शुक्ला को बनाया गया सीबीआई का नया निदेशक, सेलेक्ट कमेटी ने लगाई नाम पर मुहर

1983 बैच के आईपीएस अधिकारी ऋषि कुमार शुक्ला (Rishi Kumar Shukla) को सीबीआई का नया निदेशक (New CBI Chief)  बनाया गया है. शुक्ला के नाम पर सेलेक्ट कमेटी ने मुहर लगाई.

खास बातें

  • 1983 बैच के IPS अधिकारी हैं ऋषि कुमार शुक्ला
  • सेलेक्ट कमेटी ने उनके नाम पर लगाई मुहर
  • मध्य प्रदेश के डीजीपी समेत कई पदों पर रह चुके हैं
नई दिल्ली :

1983 बैच के आईपीएस अधिकारी ऋषि कुमार शुक्ला (Rishi Kumar Shukla) को सीबीआई का नया निदेशक (New CBI Chief)  बनाया गया है. शुक्ला के नाम पर सेलेक्ट कमेटी ने मुहर लगाई. इस कमेटी में मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, पीएम मोदी और नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे शामिल थे. आपको बता दें कि ऋषि कुमार शुक्ला (Rishi Kumar Shukla  की नियुक्ति दो सालों के लिए की गई है. उन्हें काफी तेज-तर्रार अधिकारी माना जाता है. इससे पहले वे मध्य प्रदेश के डीजीपी समेत अन्य पदों पर भी रह चुके हैं. 

 

आपको बता दें कि सीबीआई प्रमुख का पद 10 जनवरी को आलोक वर्मा को इस पद से हटाये जाने के बाद से ही खाली पड़ा था. वर्मा का गुजरात कैडर के आईपीएस अधिकारी राकेश अस्थाना से भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर झगड़ा चल रहा था. वर्मा और अस्थाना दोनों ने एक-दूसरे पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाये थे. वर्मा को सीबीआई निदेशक के पद से हटाए जाने के बाद उन्हें दमकल सेवा, नागरिक रक्षा और होम गार्ड्स का महानिदेशक बनाया गया था. यह सीबीआई प्रमुख की तुलना में कम महत्वपूर्ण पद था. 

CBI मामला: नागेश्वर राव केस से CJI के बाद अब जस्टिस सीकरी भी अलग, कहा- काश सुनवाई कर पाता, AG बोले- हमें कोई आपत्ति नहीं

वर्मा ने उस पेशकश को स्वीकार नहीं किया और उन्होंने सरकार को पत्र लिखकर कहा कि उन्हें सेवानिवृत्त मान लिया जाना चाहिये, क्योंकि उनकी 60 साल की आयु पूरी हो चुकी है. उन्होंने एक फरवरी 2017 को सीबीआई निदेशक का पदभार संभाला था. सीबीआई प्रमुख के तौर पर उनका कार्यकाल दो साल का था. कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) के सचिव सी चंद्रमौली को लिखे गए पत्र में वर्मा ने कहा था कि वह 31 जुलाई 2017 को ही सेवानिवृत्त हो चुके हैं इसलिए सरकार द्वारा प्रस्तावित नये पदभार को ग्रहण नहीं कर सकते.  

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO: कमेटी की बैठक में नहीं हो पाया सीबीआई डायरेक्टर पर फैसला