चाबहार बंदरगाह के लिए भागीदारों का चयन करना ईरान का विशेषाधिकार: भारत

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘ अपने यहां के बुनियादी ढांचा संबंधी प्रतिष्ठानों के विकास के लिए अपने भागीदारों का चयन करना ईरान का विशेषाधिकार है.’’

चाबहार बंदरगाह के लिए भागीदारों का चयन करना ईरान का विशेषाधिकार: भारत

भारत ने कहा कि अपने भागीदारों का चयन करना ईरान सरकार का विशेषाधिकार है.

खास बातें

  • भारत ने कहा कि भागीदारों का चयन करना ईरान का विशेषाधिकार
  • चीन और पाकिस्तान को आमंत्रित करने के बाद भारत ने कही यह बात
  • भारत बंदरगाह के विकास में एक अहम भागीदार रहा है
नई दिल्ली:

ईरान के चाबहार बंदरगाह के विकास के लिए चीन और पाकिस्तान को आमंत्रित करने के बाद भारत ने कहा कि परियोजना के लिए अपने भागीदारों का चयन करना ईरान सरकार का विशेषाधिकार है. ईरान के विदेश मंत्री जवाद जरीफ ने पाकिस्तान की अपनी तीन दिन की यात्रा के दौरान पाकिस्तान और चीन को सामरिक रूप से महत्वपूर्ण अपनी चाबहार बंदरगाह परियोजना में हिस्सा लेने के लिए आमंत्रित करते हुए कहा कि परियोजना का मकसद किसी को‘‘ घेरना’’ नहीं है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘ अपने यहां के बुनियादी ढांचा संबंधी प्रतिष्ठानों के विकास के लिए अपने भागीदारों का चयन करना ईरान का विशेषाधिकार है.’’ ओमान की खाड़ी में स्थित चाबहार बंदरगाह के पहले चरण का चार महीने पहले उद्घाटन किया गया था जिसके साथ पाकिस्तान के रास्ते का इस्तेमाल किए बिना ईरान, भारत, अफगानिस्तान के बीच एक सामरिक मार्ग की शुरूआत हुई.

यह भी पढ़ें: CPEC को ईरान का समर्थन, चाबहार में निवेश के लिए चीन और पाक को न्योता

भारत बंदरगाह के विकास में एक अहम भागीदार रहा है. यह बंदरगाह भारत के पश्चिमी तट से आसानी से सुगम्य है और इसे चीनी निवेश के साथ विकसित किए जा रहे पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह के जवाब के रूप में देखा जा रहा है. प्रवक्ता ने कहा, ‘‘जैसा कि आपको पता है, भारत अफगानिस्तान एवं मध्य एशिया तक आने- जाने के एक मजबूत एवं वैकल्पिक मार्ग के तौर पर चाबहार बंदरगाह के विकास में मदद दे रहा है.’’ 

यह भी पढ़ें: ईरानी राष्ट्रपति से बोले रामनाथ कोविंद, आइये मिलकर एक पथ पर चलें

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

पिछले साल नवंबर में भारत ने इस बंदरगाह के रास्ते गेहूं की पहली खेप अफगानिस्तान भेजी थी. कुमार ने कहा, ‘‘ पिछले साल अक्तूबर के बाद से चाबहार के रास्ते गेहूं की खेप संबंधी मदद सफलतापूर्वक पूरी की जा रही है. इस तरह की चार खेपें सफलतापूर्वक पहुंचायी गयी हैं.’’  उन्होंने बताया कि बंदरगाह के परिचालन में अहम प्रगति हुई है.

VIDEO: दस बातें : चाबहार पोर्ट समझौता
प्रवक्ता ने कहा, ‘‘ हम चाबहार बंदरगाह के पूर्ण एवं प्रभावी परिचालन को लेकर ईरान के साथ काम कर रहे हैं.’’ भारत, ईरान और अफगानिस्तान ने चाबहार बंदरगाह का मिलकर विकास करने के लिए 2016 में एक त्रिपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर किए थे.