"ये आपका हिंदुत्व है?" उद्धव ठाकरे ने राज्यपाल कोश्यारी पर गोवा में बीफ के मुद्दे पर किया हमला

"जो लोग (कोशियारी) को मानते हैं और उनका अनुसरण करते हैं, वे काले रंग की टोपी पहनते हैं. अगर आपके पास इसके नीचे दिमाग है, तो कम से कम उनका (मोहन भागवत) और उनके बयानों का आज अनुसरण करें"

मुंबई:

महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री बनाम राज्यपाल विवाद आज दशहरे के दिन जारी रहा, क्योंकि आज सीएम उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने अपने विजयदशमी संबोधन में भगत सिंह कोश्यारी पर पलटवार किया और उन्हें आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) के भाषण का पालन करने की सलाह दी. आरएसएस प्रमुख द्वारा दी गई हिंदुत्व की परिभाषा को मानदंड बताते हुए उन्होंने एक चेतावनी भी जारी की, "यदि कोई हमें चुनौती देना चाहता है, तो अपने जोखिम पर करें."

ठाकरे ने राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी (Bhagat Singh Koshyari) का नाम लिए बगैर कहा, "हमसे हिंदुत्व पर सवाल पूछे जा रहे हैं क्योंकि हमने अभी तक मंदिर नहीं खोले हैं." ठाकरे ने सबसे विवादास्पद मुद्दों में से एक पर निशाना साधते हुए कहा जिस पर आलोचकों ने भाजपा पर दोयम दर्जे का आरोप लगाया है. "आप हमारे हिंदुत्व के बारे में बात कर रहे हैं. इसलिए महाराष्ट्र में, आप गोमांस पर प्रतिबंध लगा रहे हैं, लेकिन गोवा में आप गोमांस के साथ हैं. क्या यह आपका हिंदुत्व है?" 

भाजपा के वैचारिक संरक्षक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत के विचारों का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, “मोहन भागवत ने आज कहा कि हिंदुत्व केवल पूजा से नहीं जुड़ा है. इसलिए काली टोपी पहने लोग और हमारी मान्यताओं पर सवाल उठाने वाले और हमें धर्मनिरपेक्ष बताने वालों को आज भागवत का भाषण सुनना चाहिए "

यह भी पढ़ें- शिवसेना ने पीएम मोदी और अमित शाह से महाराष्ट्र के राज्यपाल को वापस बुलाने को कहा

सीएम ने कहा, "जो लोग उन्हें (कोशियारी) मानते हैं और उनका अनुसरण करते हैं. वे काले रंग की टोपी पहनते हैं और अगर आपके पास इस टोपी के नीचे दिमाग है, तो कम से कम मोहन भागवत और उनके बयानों का आज अनुसरण करें"

आज सुबह अपने विजयादशमी संबोधन में गलतफहमी की बात करते हुए, भागवत ने कहा था कि हिंदुत्व का अर्थ "इस पर एक अनुष्ठानिक धारणा को जोड़कर विकृत किया गया है" उन्होंने आगे कहा, “संघ इस गलत धारणा को संदर्भित करने के लिए इसका उपयोग नहीं करता है. हमारे लिए, यह भारत की भूमि में अपनी आध्यात्मिकता-आधारित परंपराओं की निरंतरता और मूल्य प्रणाली की संपूर्ण संपत्ति के साथ-साथ हमारी पहचान को व्यक्त करने वाला शब्द है. "

बता दें कि राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी ने इसे "विडंबनापूर्ण" भी कहा कि राज्य में बार, रेस्तरां और समुद्र तटों को खोलने की अनुमति दी गई थी, लेकिन "हमारे देवी-देवताओं को तालाबंदी में रहने के लिए दंडित किया गया है." इस पर सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा था कि उन्हें किसी से भी हिंदुत्व प्रमाणपत्र की जरूरत नहीं है और वह सावधानी से विचार करने के बाद इस मुद्दे पर बात करेंगे.

विपक्षी शासित राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के साथ गवर्नर और लेफ्टिनेंट गवर्नरों के विवाद की पंक्ति में कोश्यारी सबसे नवीनतम हैं. इस सूची में दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल और दिल्ली में उनके पूर्ववर्ती नजीब जंग और पुडुचेरी की किरण बेदी शामिल हैं. इस लिस्ट में पश्चिम बंगाल के राज्य पाल जगदीप धनखड़ का नाम भी शामिल हैं.

Newsbeep

उद्धव ठाकरे ने राज्यपाल से कहा- क्या आप संविधान की शपथ भूल गए?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com