बाबुल सुप्रियो के बाल खींचने वाले छात्र ने माफी मांगने से किया मना, कहा- जानबूझ कर नहीं किया ऐसा

छात्र ने कहा कि धकेले जाने के दौरान उसका संतुलन खो गया और खुद को संभालने के दौरान मंत्री के बाल छू गये होंगे.

बाबुल सुप्रियो के बाल खींचने वाले छात्र ने माफी मांगने से किया मना, कहा- जानबूझ कर नहीं किया ऐसा

खास बातें

  • यूडीएसएफ ने किया छात्र को हर संभव कानूनी मदद दिलाने का वादा
  • छात्र का दावा- गलत तरीके से बोले बाबुल सुप्रियो
  • छात्र ने कहा बीजेपी आईटी सेल ने की है वीडियो से छेड़छाड़
कोलकाता:

जादवपुर विश्वविद्यालय (Jadavpur University) में वामपंथी छात्र संगठनों के विरोध प्रदर्शन के दौरान कथित तौर पर केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो (Babul Supriyo) के बाल खींचने वाले छात्र ने सोमवार को कहा कि माफी मांगने का कोई सवाल ही नहीं उठता क्योंकि उसने इरादतन कुछ नहीं किया. संस्कृत कॉलेज के छात्र और वामपंथी संगठन यूनाइटेड डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स फ्रंट (यूडीएसएफ) के सदस्य देबांजन बल्लभ ने संवाददाताओं से कहा कि जब वह असम में एनआरसी की वजह से बेघर हुए लाखों लोगों की चिंताओं के बारे में बात करना चाहता था तो बाबुल सुप्रियो ने ही उन्हें धमकाना और गाली गलौच करना शुरू कर दिया. 

सुप्रियो ने छात्र की बीमार मां को आश्वासन दिया था कि उनके बेटे की हरकत के लिए उस पर कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी. बल्लभ ने दावा किया, ‘‘मैंने आगे बढ़कर मंत्री से सवाल पूछा जो काले झंडे दिखाये जाने पर छात्रों से उलझ रहे थे. इस पर बाबुल सुप्रियो आक्रामक हो गये और उल्टा उन्होंने मुझसे पूछा लिया कि मुझे एनआरसी का फुल फॉर्म भी पता है. उन्होंने गलत तरीके से बोलना जारी रखा, मैंने विरोध किया और धक्कामुक्की के बीच उनके सुरक्षाकर्मियों ने मुझे धकेल दिया.'' 

बाल खींचने वाले छात्र की मां से बोले बाबुल सुप्रियो, ‘प्रिय चाची, चिंता मत करो...'

छात्र ने कहा कि धकेले जाने के दौरान उसका संतुलन खो गया और खुद को संभालने के दौरान मंत्री के बाल छू गये होंगे. उन्होंने कहा, ‘‘यह गैर इरादतन है. वायरल हुए वीडियो में मुझे केंद्रीय मंत्री के बाल खींचते हुए दिखाया गया है. इसमें बीजेपी के आईटी प्रकोष्ठ ने छेड़छाड़ की है.'' देबांजन ने कहा, ‘‘केंद्रीय मंत्री से माफी मांगने का सवाल ही नहीं उठता क्योंकि मैंने उस दिन कुछ गलत नहीं किया था.'' 

बृहस्पतिवार को जादवपुर विश्वविद्यालय में मौजूदगी के सवाल पर बल्लभ ने दावा किया कि वह यूडीएसएफ के एक कार्यक्रम में शामिल होने आया था और ‘‘शिक्षण संस्थानों में फासीवादी ताकतों के प्रवेश को रोकने'' में एकजुटता दिखाने के लिए छात्रों के प्रदर्शन में शामिल हो गया. हालांकि देबांजन ने उसकी बीमार मां रूपाली बल्लभ के सुप्रियो से माफी मांगने के लिए कहे जाने पर कोई टिप्पणी नहीं की.

जब मुंबई के Traffic में फंस गए केंद्रीय मंत्री, सरकारी गाड़ी छोड़ लेना पड़ा ऑटो, देखें- VIDEO

Newsbeep

यूडीएसएफ के एक प्रवक्ता ने कहा कि छात्र संगठन बल्लभ को हरसंभव कानूनी सहायता प्रदान करेगा. वहीं सुप्रियो के साथ उस दिन जादवपुर विश्वविद्यालय गयीं बीजेपी नेता अग्निमित्रा पॉल ने बल्लभ के दावों को खारिज कर दिया. आंदोलन के समय मौजूद रहीं पॉल ने कहा, ‘‘वीडियो में साफ है कि उन्होंने (बल्लभ ने) जानबूझकर बाबुलदा (सुप्रियो) के बाल खींचे और उन्हें धमकाते रहे. दुर्भाग्य की बात है कि एक बेटा माफी मांगने से इनकार करके मां की अवज्ञा कर रहा है जबकि खुद मां ने माफी मांग ली है और उसके करियर को लेकर चिंतित हैं.'' फैशन डिजाइनर पॉल ने कहा, ‘‘यह एक छात्र का अशोभनीय व्यवहार है.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: जादवपुर यूनिवर्सिटी में बाबुल सुप्रियो का विरोध, दिखाये गये काले झंडे
    



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)