NDTV Khabar

श्रीनगर एयरपोर्ट के पास बीएसएफ कैंप पर हमले का मास्टरमांइड आतंकी खालिद मारा गया

पाकिस्तान का रहने वाला खालिद पिछले हफ्ते बीएसएफ कैंप पर हुए हमले का मास्टरमाइंड था. यही नहीं, खालिद पुलवामा के पुलिस लाइंस में अगस्त में हुए हमले का भी मास्टरमाइंड था.

278 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
श्रीनगर एयरपोर्ट के पास बीएसएफ कैंप पर हमले का मास्टरमांइड आतंकी खालिद मारा गया

खालिद पुलवामा के पुलिस लाइंस में अगस्त में हुए हमले का भी मास्टरमाइंड था

खास बातें

  1. जैश के लिए अब जम्मू कश्मीर में जड़ें जमाना काफी मुश्किल होगा
  2. खालिद का मारा जाना सुरक्षाबलों के लिए बहुत बड़ी कामयाबी है
  3. आतंकी कमांडर ने मुठभेड़ के दौरान बचने के लिए अपने तीन ठिकाने बदले
नई दिल्‍ली: सुरक्षाबलों ने बारामुला में जैश-ए-मुहम्मद के कमांडर खालिद को ढेर कर दिया. 12 लाख का ईनामी खालिद डबल ए श्रेणी का आतंकी था. करीब तीन घंटों तक मुठभेड़ के बाद खालिद को मार गिराया गया. पाकिस्तान का रहने वाला खालिद पिछले हफ्ते बीएसएफ कैंप पर हुए हमले का मास्टरमाइंड था. यही नहीं, खालिद पुलवामा के पुलिस लाइंस में अगस्त में हुए हमले का भी मास्टरमाइंड था. इस हमले में चार सीआरपीएफ और चार पुलिस के जवान शहीद हुए थे. इतना ही नहीं, बारामुला में सेना के काफिले पर हुए हमले में भी शामिल था जिसमें सेना के दो जवान और एक पुलिसकर्मी शहीद हुए थे. तीन अक्टूबर को श्रीनगर एयरपोर्ट के पास बीएसएफ कैंप पर आतंकियों ने हमला कर दिया था. हालांकि बाद में सुरक्षाबलों ने हमला करने वाले तीन आतंकवादियों को मार गिराया था लेकिन कमांडर उनकी पकड़ से बाहर था. आतंकी कमांडर ने मुठभेड़ के दौरान बचने के लिए अपने तीन ठिकाने बदले, लेकिन वो बच नहीं पाया.

सुरक्षाबलों के मुताबिक जैसे बारामुला के लाडूरा इलाके में खालिद के होने की खबर मिली तो सुरक्षाबलों ने नाका लगाया. नाका पार्टी को सड़क पर जैसे ही कुछ संदिग्ध लोग नजर आए, उसने उन्हें रुकने का संकेत किया. यह लोग आतंकी थे और उन्होंने नाका पार्टी को देखते ही उस पर फायर करते हुए करीब के गांव की ओर दौड़ लगाई. जवानों ने आतंकियों की फायरिंग से खुद को बचाते हुए जवाबी फायर किया. इस दौरान एक आतंकी वहां फंस गया और बाकी भाग निकले.

टिप्पणियां
फंसा आतंकी पहले जान बचाने के लिए स्कूल की इमारत में छिप गया. लेकिन जब उसे लगा कि वह बच नहीं पाएगा तो उसने साथ सटे एक मकान में अपनी पोजीशन लेकर सुरक्षाबलों पर फायरिंग शुरू कर दी. सुरक्षाबलों ने जवाबी कार्रवाई करते हुए उसे सरेंडर करने के लिए कहा. जब वो नहीं माना तो 25 मिनट तक चली मुठभेड़ में मारा गया. खालिद का मारा जाना सुरक्षाबलों के लिए बहुत बड़ी कामयाबी है. खासकर जैश के लिए अब जम्मू कश्मीर में जड़ें जमाना काफी मुश्किल होगा. खालिद एलओसी पार करने वालों को सुरक्षित ठिकानों के साथ पैसों का भी इंतजाम करता था.

VIDEO: बीएसएफ कैंप पर हुए हमले के बाद चल रही मुठभेड़ खत्म


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement