NDTV Khabar

जम्मू-कश्मीर: पुलवामा में सेना के काफिले पर आतंकी हमले में जख्मी हुए 2 जवान शहीद

जम्मू कश्मीर के पुलवामा के अरिहल गांव में सेना के काफिले पर सोमवार की शाम आतंकी हमला हुआ था. इसमें दो जवान शहीद हो गए हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जम्मू-कश्मीर: पुलवामा में सेना के काफिले पर आतंकी हमले में जख्मी हुए 2 जवान शहीद

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आर्मी की गाड़ी पर सोमवार को हुआ था हमला

खास बातें

  1. जम्मू कश्मीर में हुआ आईईडी ब्लास्ट
  2. जख्मी हुए दो जवान शहीद
  3. IED का हुआ था इस्तेमाल
नई दिल्ली:

जम्मू कश्मीर के पुलवामा के अरिहल गांव में सेना के काफिले पर सोमवार की शाम आतंकी हमला हुआ था. इसमें दो जवान शहीद हो गए हैं. हमले में आतंकियों ने IED का इस्तेमाल किया था. पुलवामा के अरिहल गांव के पास 44 राष्ट्रीय राइफल्स का बख्तरबंद वाहन हमले की चपेट में आ गया. रिपोर्ट की मानें तो हमले में सेना के कैस्पर वाहर को नुकसान पहुंचा. सेना ने एक बयान में आतंकवादियों द्वारा हमले को विफल प्रयास कहा है. बता दें कि बीते बुधवार को जम्मू कश्मीर के अनंतनाग जिले में आतंकियों ने CRPF के गश्ती दल पर हमला किया था. इस हमले में सीआरपीएफ के 5 जवान शहीद हो गए थे. दूसरी तरफ, जवाबी कार्रवाई में सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को भी मार गिराया था. मालूम हो कि बीते फरवरी महीने में पुलवामा में ही CRPF के काफिले पर आत्मघाती हमला किया गया था, जिसमें 40 से अधिक जवान शहीद हो गए थे. 

शहीद इंस्पेक्टर के 4 साल के बेटे को गोद में लेकर फूट-फूटकर रो पड़े श्रीनगर के SSP, फोटो वायरल


पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद भारत ने आतंकवादियों को मुंहतोड़ जवाब देते हुए उनकी कमर तोड़ दी थी. पीओके और पाकिस्तान के आतंकी कैंपों पर (Air strike on Terrorist Camp) भारतीय वायुसेना (indian air force) ने हवाई हमला किया था और उसके सारे कैंपों को तबाह कर दिया था. भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमान मिराज 2000 के 12 जेट ने पीओके और पाकिस्तान के बालाकोट (Balakot) में जाकर हवाई हमले (India Strikes) किए थे और आतंकी कैपों को न सिर्फ पूरी तरह तबाह किया, बल्कि करीब 300 आतंकियों को भी मार गिराया था.

जम्मू कश्मीर के अनंतनाग में आतंकियों से मुठभेड़ में मेजर शहीद, तीन जवान घायल

टिप्पणियां

वायुसेना की इस बड़ी कार्रवाई में न सिर्फ 300 आतंकवादी मारे गए, बल्कि इसमें जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अज़हर का बहनोई यूसुफ अज़हर भी मारा गया था जो यह कैंप चला रहा था. भारतीय वायुसेना ने इस बड़ी कार्रवाई को अंजाम देने के लिए 12 मिराज फाइटर जेट का सहारा लिया. इतना ही नहीं, करीब 1000 किलो बम भी बरसाए गए.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement