NDTV Khabar

कश्मीर में तनाव के पीछे चीन का भी हाथ, राज्य से नहीं हटेगा अनुच्छेद 370 : मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती

अमरनाथ यात्रियों की बस पर हुए आतंकी हमले के चार दिन बाद महबूबा दिल्ली पहुंची हैं. वहीं, हमले के बाद केंद्र सरकार ने मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती की सराहना करते हुए कहा था कि उन्होंने हालात को अच्छी तरह संभाला और ज़रूरतमंदों तक मदद पहुंचाई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कश्मीर में तनाव के पीछे चीन का भी हाथ, राज्य से नहीं हटेगा अनुच्छेद 370 : मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती

जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती.

खास बातें

  1. कश्मीर मुद्दे पर की गृहमंत्री राजनाथ सिंह से बात
  2. कश्मीर में दिनों दिन बिगड़ते जा रहे हैं हालात
  3. आतंकी हमले के चार दिन बाद महबूबा दिल्ली पहुंची हैं.
नई दिल्ली: कश्मीर के हालात दिनों दिन बिगड़ते ही जा रहे हैं. दक्षिण कश्मीर सबसे ज़्यादा प्रभावित है. वहां के हालात पर बात करने के लिए आज जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती दिल्ली में हैं. दोपहर को महबूबा ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाक़ात की. मुलाकात के बाद मीडिया से अनौपचारिक बातचीत में मुफ्ती ने कहा कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 नहीं हटेगी. उन्होंने कहा कि कश्मीर में तनाव के पीछे चीन का भी हाथ है. साथ ही उन्होंने कहा कि कश्मीर में बाहर से आतंकी आ रहे हैं. इसके अलावा उन्होंने राज्य में जारी तनाव के बीच गृहमंत्री राजनाथ सिंह के समर्थन के लिए धन्यवाद दिया.

अमरनाथ यात्रियों की बस पर हुए आतंकी हमले के चार दिन बाद महबूबा दिल्ली पहुंची हैं. वहीं, हमले के बाद केंद्र सरकार ने मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती की सराहना करते हुए कहा था कि उन्होंने हालात को अच्छी तरह संभाला और ज़रूरतमंदों तक मदद पहुंचाई.

बता दें कि केंद्र सरकार ने चीन के साथ जारी तनाव और कश्मीर के हालात की जानकारी देने के लिए शुक्रवार को विपक्षी दलों के साथ बैठक की. बैठक में विपक्षी दलों ने राष्ट्रीय मुद्दों पर सरकार को साथ देने का भरोसा दिया.
 
ये भी पढ़ें
अमरनाथ यात्रियों पर हमले से सभी कश्मीरियों का सिर शर्म से झुक गया : महबूबा मुफ्ती
अमरनाथ यात्रियों पर हमले के पीछे लश्कर का हाथ, अजित डोभाल और राजनाथ सिंह ने की हाई लेवल मीटिंग
अधिकारी की नहीं, 'विश्वास' की हत्या हुई : महबूबा मुफ्ती

इस बैठक में गृहमंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, रक्षा मंत्री अरुण जेटली, एनएसए अजीत डोबाल और विदेश सचिव जयशंकर शामिल थे. डोकलाम में चीनी घुसपैठ पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ विदेश सचिव जयशंकर ने सड़क निर्माण के जरिए चीन के इरादों की जानकारी दी. 

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement