जम्मू-कश्मीर: पुंछ में खुले स्कूल, फिर शुरू की गई ‘पैगाम ए अमन’ बस सेवा

जम्मू क्षेत्र के पुंछ जिले में उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सोमवार को फिर से खोल दिये गए. एक अधिकारी ने यह जानकारी दी.

जम्मू-कश्मीर: पुंछ में खुले स्कूल, फिर शुरू की गई ‘पैगाम ए अमन’ बस सेवा

प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  • पुंछ में खुले स्कूल
  • फिर शुरू की गई ‘पैगाम ए अमन’ बस सेवा
  • एक अधिकारी ने यह जानकारी दी
श्रीनगर:

जम्मू क्षेत्र के पुंछ जिले में उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सोमवार को फिर से खोल दिये गए. एक अधिकारी ने यह जानकारी दी. जम्मू-कश्मीर से इस महीने की शुरुआत में विशेष राज्य का दर्जा वापस लिये जाने के बाद लागू पाबंदियों के चलते स्कूल करीब तीन सप्ताह बंद रहे. अधिकारी ने कहा कि जिले में कॉलेज बंद रहेंगे और कानून-व्यवस्था की समीक्षा के बाद इस सप्ताह उन्हें फिर से खोले जाने की संभावना है. जिला विकास आयुक्त राहुल यादव ने कहा, "पूरे जिले में उच्चतर माध्यमिक स्कूलों में पढ़ाई सामान्य रूप से शुरू हो गई है. शहर और इससे लगे इलाकों के स्कूलों में छात्रों की 90 प्रतिशत उपस्थिति दर्ज की गई और दूर-दराज के इलाकों में यह 70 प्रतिशत रही." यादव ने कहा, "हम आने वाले दिनों में पूरी उपस्थिति की उम्मीद कर रहे हैं." उन्होंने कहा कि पूरे जिले में हालात "शांतिपूर्ण रहे" और किसी भी अप्रिय घटना की "जानकारी नहीं" मिली. 
 

राज्यपाल सत्यपाल मलिक बोले- राहुल गांधी को 'ओछी राजनीति' करने के बजाए राष्ट्रहित को ऊपर रखना चाहिए

'पैगाम ए अमन' बस सेवा भी एक सप्ताह तक निलंबित रहने के बाद सोमवार से फिर शुरू हो गई. इसके साथ ही फंसे हुए 46 यात्री अपने घरों के लिए रवाना हो गए. इनमें 40 लोग पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से थे. यह बस सेवा जम्मू कश्मीर के पुंछ और पीओके स्थित रावलकोट के बीच चलती है. अधिकारियों ने बताया कि यह साप्ताहिक बस सेवा 19 अगस्त को तब रद्द कर दी गई थी जब पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के अधिकारियों ने बस को नियंत्रण रेखा के पार जाने देने की भारतीय अधिकारियों की मांग पर कोई जवाब नहीं दिया. पुंछ जिला विकास आयुक्त राहुल यादव ने कहा, "बस सेवा शुरू हो गई और पीओके निवासी 40 यात्री तथा छह भारतीय लोग अपने-अपने घरों को रवाना हो गए." 

पी. चिदंबरम को 'किंगपिन' कहने वाले जज को कपिल सिब्बल ने कहा- दिमाग कहां इस्तेमाल किया, ईडी के नोट को कॉपी कर लिया

उन्होंने कहा कि बकरीद से एक सप्ताह पहले अपने रिश्तेदारों से मिलने जम्मू कश्मीर के पुंछ पहुंचे दो अन्य पीओके निवासियों का परमिट खत्म होने वाला है, इसके साथ ही दोनों तरफ से कोई नया यात्री नहीं है. हर सोमवार को चलने वाली यह बस सेवा पाकिस्तान की ओर से बार-बार किए जाने वाले संघर्षविराम उल्लंघन से उत्पन्न तनाव के बीच भी नहीं रुकी, लेकिन पिछले सोमवार (19 अगस्त) को यह तब निलंबित कर दी गई थी जब बस को नियंत्रण रेखा के पार जाने देने के भारतीय अधिकारियों के संदेश का पीओके से संबंधित अधिकारियों ने कोई जवाब नहीं दिया. जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के संबंधित प्रावधानों को खत्म करने और राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने के केंद्र के फैसले के बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव है.

तीन देशों के दौरे से लौटे पीएम मोदी, आज अरुण जेटली के घर जाएंगे

जम्मू-कश्मीर में चिकित्सा या किसी अन्य आपातकालीन सहायता की आवश्यकता पड़ने पर लोगों के लिए श्रीनगर में सीआरपीएफ की हेल्पलाइन ने सोमवार को तीन नए मोबाइल नंबरों को जारी किया. 'मददगार' हेल्पलाइन ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल के माध्यम से तीन नंबर- 9469793260, 9469793430, 9469793401 को जारी किया और कहा कि यह नागरिकों को 24X7 को आवश्यक सहायता प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध प्रयास है. ट्विटर पर कहा गया, "किसी भी आपातकालीन, चिकित्सा सहायता या किसी भी अन्य आवश्यक मदद के लिए कृपया इन नंबरों को डायल करें." 

Newsbeep

VIDEO: पाबंदियों पर बोले राज्यपाल सत्यपाल मलिक, फोन पर पाबंदी से जिंदगियां बचीं

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)