जयललिता बेहद शर्मीली और रिजर्व रहने वाली महिला थीं : हेमा मालिनी

जयललिता बेहद शर्मीली और रिजर्व रहने वाली महिला थीं : हेमा मालिनी

हेमा मालिनी

खास बातें

  • जया और हेमा ने एक साथ फिल्मी करियर की शुरुआत की थी.
  • दोनों ने ही बाद में राजनीति में कदम रखा.
  • तमिल दोनों की मातृ भाषा है.
नई दिल्ली:

जयललिता और हेमा मालिनी ने एक साथ फिल्मी करियर की शुरुआत की थी. दोनों ने ही बाद में राजनीति में कदम रखा. हेमा मालिनी ने मीडिया से बात करते हुए काह कि हमने तमिल फिल्म अडाई से काम करना शुरू किया था. तमिल हम दोनों की मातृ भाषा है. यह फिल्म त्रिकोणीय प्रेम संबंधों पर आधारित थी. हेमा मालिनी ने बताया कि बाद में निर्माता ने किसी वजह से मुझे हटा दिया. हेमा ने बताया कि उनकी ही तरह जयललिता भी एक क्लासिकल डांसर थीं.
 

हेमा ने कहा कि इसके कुछ दिन बाद फिर जयाललिता के साथ दूसरी फिल्म में काम करने का मौका मिला. हेमा के अनुसार इस समय उन्होंने जया के साथ काफी समय बिताया. उन्होंने बताया कि जयाललिता सेट पर अपनी मां के साथ आया करती थीं. वे पूरे समय अलग ही रहा करती थीं. लोगों से कम बात किया करती थीं. मैंने महसूस किया कि वह शर्मीले स्वभाव की थीं.

हेमा के अनुसार वह जयललिता की खूबसूरती की कायल थीं. हेमा ने कहा कि जया काफी विनम्र  और गरिमामयी महिला थीं.

हेमा ने कहा कि जिस महिला से मैं सेट पर मिली थी वह राजनीति में आई तो उसका अंदाज बदल सा गया था. वह शर्मीली होते हुए भी राजनीति में आईं और एक शक्तिशाली महिला के रूप में लोगों ने उन्हें जाना. राजनीति में उन्होंने अपनी एक अलग छाप छोड़ी. वह गरीबी की मसीहा बन गईं और लोग उन्हें अम्मा-अम्मा कहकर पुकारने लगे. यह वह जगह थी जो जयललिता ने अपने लिए बनाई थी.


हेमा मालिनी की नजर में जयललिता ने सबसे बड़ी उपलब्धि पुरुषों के वर्चस्व वाले क्षेत्र राजनीति में अपनी एक जगह बनाना है. राजनीति में उनपर तमाम हमले हुए लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और आगे बढ़ती गईं. यही वजह कि उन्होंने राज्य से लेकर केंद्र तक की राजनीति में अपनी जगह बना ली थी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com