NDTV Khabar

राज्यसभा में विपक्ष का साथ देते नजर आए जदयू नेता शरद यादव

बिहार में भाजपा के साथ जदयू के गठबंधन के बाद भी सदन में शरद यादव की सीट नहीं बदली है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राज्यसभा में विपक्ष का साथ देते नजर आए जदयू नेता शरद यादव

शरद यादव की पार्टी से नाराजगी अभी भी दूर नहीं हुई है...

नई दिल्ली: जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के वरिष्ठ नेता शरद यादव मंगलवार को राज्यसभा में विपक्ष का साथ देते दिखे जब कांग्रेस दो प्रकार के नोटों की छपाई का आरोप लगाते हुए सरकार पर हमला बोल रही थी. चर्चा है कि शरद यादव बिहार के मुख्यमंत्री और जदयू प्रमुख नीतीश कुमार द्वारा महागठबंधन तोड़ कर भाजपा के साथ जाने के मुद्दे पर नाराज चल रहे हैं.

बिहार में भाजपा के साथ जदयू के गठबंधन के बाद भी सदन में शरद यादव की सीट नहीं बदली है और अब भी उनकी सीट विपक्ष की ओर ही है. शरद यादव के एक तरफ बसपा नेता एस सी मिश्रा की सीट है और दूसरी ओर सपा नेता रामगोपाल यादव की सीट है.

शून्यकाल में कांग्रेस सदस्य कपिल सिब्बल ने दो तरह के नोटों की छपाई का मुद्दा उठाया था. इस मुद्दे पर शरद यादव ने कहा कि दुनिया में कोई अन्य ऐसा देश नहीं होगा जहां दो आकार वाले नोट छपे हों. उन्होंने कहा कि सरकार को इस बारे में जवाब देना चाहिए.

पढ़ें :  शरद यादव बोले- नई पार्टी नहीं बनाएंगे, नेता ने भावना में बहकर दे दिया था बयान

कुरियन ने सदस्यों से शांत होने और सदन में शून्यकाल चलने देने की अपील की लेकिन हंगामा कर रहे सदस्यों पर अपील का कोई असर नहीं हुआ और उपसभापति ने 11 बजकर करीब 50 मिनट पर बैठक 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी.

VIDEO : शरद यादव लोगों से करेंगे जनसंवाद


टिप्पणियां
दोपहर एक बजे बैठक शुरू होने पर केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने 25 जुलाई 2017 को राज्यसभा में दिए गए एक अतारांकित प्रश्न के दिए गए उत्तर के संशोधनार्थ एक विवरण सदन के पटल पर रखा. इसके बाद बैठक दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गयी. दोपहर दो बजे भी हंगामा जारी रहा और कार्यवाही बार बार बाधित हुई . अंतत: करीब ढाई बजे बैठक दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement