Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

JDU नेता प्रशांत किशोर ने NRC को लेकर साधा निशाना, कहा- ...यह तर्क तसल्ली नहीं दे सकता

देश भर में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में चल रहे विरोध के प्रदर्शन के बीच जदयू के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने एक बार फिर ट्वीट कर NRC के मुद्दे पर सवाल खड़ा किया है

JDU नेता प्रशांत किशोर ने NRC को लेकर साधा निशाना, कहा- ...यह तर्क तसल्ली नहीं दे सकता

प्रशांत किशोर ने NRC पर उठाया सवाल

नई दिल्ली:

देश भर में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में चल रहे विरोध के प्रदर्शन के बीच जदयू के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने एक बार फिर ट्वीट कर NRC के मुद्दे पर सवाल खड़ा किया है. प्रशांत किशोर लगातार CAA और NRC के मुद्दे पर मुखर हो कर विरोध कर रहे हैं. राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने अपने ट्वीट में लिखा है "किसी राष्ट्रव्यापी NRC की घोषणा नहीं की गई, यह तर्क तसल्ली नहीं दे सकता, क्योंकि यह बिल्कुल वैसा नहीं है, जब साफ-साफ कह दिया जाए कि NRC नहीं होगा" 

गौरतलब है कि गुरुवार को देशभर में नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है. पटना, दिल्ली, लखनऊ सहित कई शहरों में प्रदर्शनकारियों के सड़कों पर निकलने की खबरें मिलने लगी हैं. दिल्ली में इस नए कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन को देखते हुए जामिया मिल्लिया इस्लामिया, जसोला विहार, शाहीन बाग और मुनिरका मेट्रो स्टेशन पर प्रवेश और निकास बंद कर दिया गया है. इन स्टेशनों पर ट्रेन नहीं रुकेगी. इन चार स्टेशनों को बंद किए जाने के बाद डीएमआरसी ने लाल किला, जामा मस्जिद, चांदनी चौक और विश्वविद्यालय मेट्रो स्टेशन को भी बंद कर दिया है. अगले आदेश तक अब इन स्टेशनों पर भी ट्रेन नहीं रुकेगी. पटेल चौक, लोक कल्याण मार्ग, उद्योग भवन, आईटीओ, प्रगति मैदान और खान मार्केट मेट्रो स्टेशन भी बंद कर दिए गए हैं.

नागरिकता कानून का विरोध: आजमगढ़ में भी प्रदर्शन रोकने पहुंची पुलिस तो हुआ पथराव, किया गया लाठीचार्ज, इंटरनेट बंद

प्रशांत किशोर ने इससे पहले भी कई ट्वीट कर NRC का विरोध किया था, हालांकि उनकी पार्टी जनता दल यूनाइटेड ने संसद के दोनों ही सदन में CAA का समर्थन किया था. बाद में पार्टी प्रमुख नीतीश कुमार से उनकी मुलाकात के बाद ऐसा माना जा रहा था कि वो अब पार्टी लाइन के साथ रहेंगे.

VIDEO: नागरिकता कानून के विरोध में देश के कई शहरों में बंद और प्रदर्शन