NDTV Khabar

अभी खत्म नहीं हुई है मोदी मंत्रिमंडल में JDU की एंट्री की उम्मीद

नरेंद्र मोदी मंत्रिमंडल का आज तीसरा विस्तार और बदलाव हुआ. पहले कहा जा रहा था कि इस विस्तार में एनडीए में हाल ही शामिल हुई जेडीयू के नेताओं को भी शामिल किया जाएगा. साथ ही माना जा रहा था कि एआईएडीएमके के नेताओं को भी मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है.  

599 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अभी खत्म नहीं हुई है मोदी मंत्रिमंडल में JDU की एंट्री की उम्मीद

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार. (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. अभी भी मंत्रिमंडल का विस्तार संभव
  2. पीएम नरेंद्र मोदी 81 मंत्री रख सकते हैं
  3. अभी मंत्रिमंडल में सिर्फ 76 लोग हैं
नई दिल्ली: नरेंद्र मोदी मंत्रिमंडल का आज तीसरा विस्तार और बदलाव हुआ. पहले कहा जा रहा था कि इस विस्तार में एनडीए में हाल ही शामिल हुई जेडीयू के नेताओं को भी शामिल किया  जाएगा. साथ ही माना जा रहा था कि एआईएडीएमके के नेताओं को भी मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है. लेकिन, मंत्रिमंडल में विस्तार के दौरान दोनों ही दलों के नेताओं को जगह नहीं दी गई. जेडीयू नेताओं की ओर से कहा गया  कि यह मंत्रिमंडल बदलाव एनडीए का नहीं, बीजेपी का आंतरिक बदलाव था.

यह भी पढ़ें : जेडीयू में मंथन जारी, रामचंद्र प्रसाद का नाम तय, दूसरे नाम के लिए रेस जारी

अभी भी विस्तार संभव
सूत्रों का कहना है कि अभी संभव है कि एक और मंत्रिमंडल विस्तार हो सकता है. यह इसलिए कहा जा रहा है कि अभी मोदी मंत्रिमंडल में कुछ मंत्रियों की गुंजाइश बाकी है. संविधान के अनुसार पीएम नरेंद्र मोदी 81 मंत्री रख सकते हैं. अभी पीएम मोदी को मिलाकर कुल 76 लोग मंत्रिमंडल में हैं. यानि अभी भी पांच मंत्रियों की गुंजाइश है.
 
यह भी पढ़ें : 'वीमन पावर' से लैस है मोदी की नई कैबिनेट, मिलिए इन महिला मंत्रियों से..

दो मंत्रियों के नाम पर हो गई थी चर्चा
जानकारी के लिए बता दें कि जेडीयू के सूत्रों ने बताया था कि जेडीयू ने इस मंत्रिमंडल के विस्तार के लिए अपने कोट से दो मंत्रियों के नामों पर चर्चा भी कर ली. सूत्रों ने यह भी बताया कि नीतीश कुमार ने एक मंत्री का नाम फाइनल कर लिया था और दूसरे नाम पर मंथन जारी था. लेकिन यह अभी भी राजनीतिक हल्कों से निकलकर सामने नहीं आया है कि आखिर क्यों इस मंत्रिमंडल विस्तार में जेडीयू के किसी नेता को शामिल नहीं किया गया.


ज्ञात हो कि शिवसेना ने एक बयान जारी कर कहा था कि कैसे हो सकता है कि दो सांसदों वाली पार्टी के दो नेताओं को मंत्रिमंडल में शामिल किया जाए और 18 सांसदों वाली पार्टी को एक ही मंत्री पद मिले. उनका इशारा जेडीयू की ओर था जिसके लोकसभा में केवल दो ही सांसद हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement