NDTV Khabar

JDU की बैठक: एनडीए में शामिल होने पर लगेगी मुहर, शरद पर फैसला नहीं- केसी त्‍यागी

हालांकि इससे पहले पार्टी के वरिष्‍ठ नेता केसी त्‍यागी ने साफ किया है कि नीतीश कुमार के बीजेपी के साथ गठजोड़ करने के बाद बगावती सुर अपनाने वाले शरद यादव के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
JDU की बैठक: एनडीए में शामिल होने पर लगेगी मुहर, शरद पर फैसला नहीं- केसी त्‍यागी

केसी त्‍यागी. (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. जदयू की राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक का पटना में आयोजन
  2. नीतीश कुमार के बीजेपी के साथ हाथ मिलाने पर लगेगी औपचारिक मुहर
  3. त्‍यागी ने कहा कि बगावती तेवर अपनाने वाले शरद यादव को नहीं निकाला जाएगा
पटना: जदयू की राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शुरू हो गई है. इसमें बीजपी के नेतृत्‍व वाले एनडीए में शामिल होने पर औपचारिक मुहर लगनी तय मानी जा रही है. हालांकि इससे पहले पार्टी के वरिष्‍ठ नेता केसी त्‍यागी ने साफ किया है कि नीतीश कुमार के बीजेपी के साथ गठजोड़ करने के बाद बगावती सुर अपनाने वाले शरद यादव के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होगी. हालांकि इससे पहले पार्टी के वरिष्‍ठ नेता केसी त्‍यागी ने साफ किया है कि नीतीश कुमार के बीजेपी के साथ गठजोड़ करने के बाद बगावती सुर अपनाने वाले शरद यादव के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होगी. इस मामले में उन्‍होंने स्‍पष्‍ट किया है कि वह पार्टी के वरिष्‍ठ नेता हैं और उनके बारे में कोई फैसला नहीं लिया जाएगा. एनडीए में शामिल होने के साथ ही इस बात के भी कयास लगाए जा रहे हैं कि पीएम नरेंद्र मोदी के अगले कैबिनेट विस्‍तार में जेडीयू को भी जगह मिल सकती है और इसके कोटे से दो मंत्रियों को बनाया जा सकता है.

हालांकि इसके साथ ही यह भी स्‍पष्‍ट है कि शरद यादव, नीतीश कुमार द्वारा आयोजित राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में हिस्‍सा नहीं लेंगे. उनकी अगुआई वाला जदयू का प्रतिद्वंद्वी धड़ा भी पटना में शनिवार (19 अगस्त) को अपनी अलग बैठक करने जा रहा है. इससे ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि पार्टी में जल्द ही दो फाड़ हो सकती है. भाजपा से हाथ मिलाने के नीतीश के फैसले का विरोध कर रहे शरद यादव के करीबी नेता भी एस के मेमोरियल हॉल में 'जन अदालत' नाम का एक कार्यक्रम करेंगे. दोनों बैठकों से साफ हो जाता है कि जदयू में दरार पड़ चुकी है और पार्टी टूट की ओर बढ़ रही है.

पढ़ें,   शरद यादव : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को देना चाहेंगे 'धन्यवाद'

उधर मुख्यमंत्री के एक अणे मार्ग स्थित आवास पर जदयू का आधिकारिक कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है. पार्टी को पहले 23-24 जुलाई को दिल्ली में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक आयोजित करनी थी. लेकिन बाद में तारीख बदलकर 19 अगस्त कर दी गयी और बैठक का स्थान बदलकर पटना कर दिया गया. राष्ट्रीय कार्यकारिणी का एजेंडा पूछे जाने पर त्यागी ने कहा कि इसमें महागठबंधन से अलग होने और 'राज्य हित' में भाजपा के साथ सरकार बनाने के पार्टी के बिहार इकाई के फैसले को मंजूरी दी जाएगी. नीतीश ने साफ कर दिया था कि पार्टी की बिहार इकाई की इच्छा के मुताबिक वह जदयू, राजद और कांग्रेस के महागठबंधन से बाहर निकले हैं.
पढ़ें,  नीतीश की बड़ी कार्रवाई, राज्यसभा में शरद यादव की जेडीयू के नेता पद से छुट्टी

उन्होंने कहा था कि चुनाव आयोग में जदयू बिहार की क्षेत्रीय पार्टी के तौर पर पंजीकृत है. त्यागी ने कहा कि पार्टी को राजग में शामिल करने के भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के न्यौते पर भी राष्ट्रीय कार्यकारिणी अपनी सहमति देगी. शरद गुट की ओर से आयोजित होने वाले 'जन अदालत' नाम के कार्यक्रम के बारे में त्यागी ने कहा कि यह पार्टी का आधिकारिक कार्यक्रम नहीं है. बिहार जदयू के प्रमुख प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि 'जन अदालत' से हमारा कोई लेना-देना नहीं है.

टिप्पणियां
VIDEO: जेडीयू बागियों का सम्‍मेलन


उधर बागी नेताओं ने पटना में कुछ पोस्टर लगाए हैं, जिनमें लिखा है, ''जन अदालत का फैसला....महागठबंधन जारी है.'' इन पोस्टरों पर शरद यादव, जदयू के राज्यसभा सदस्य अली अनवर और पूर्व मंत्री रमई राम की तस्वीरें हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement