JNU हिंसा पर JDU युवा इकाई के अध्यक्ष संजय कुमार बोले- पूरी तरह से फेल है जेएनयू प्रशासन

JNU मामले की जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई है. पुलिस ने कुछ हमलावरों की पहचान की है. इस बीच जनता दल यूनाइटेड (JDU) की युवा इकाई के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय कुमार (Sanjay Kumar) ने JNU में हुई हिंसा की निंदा की है.

JNU हिंसा पर JDU युवा इकाई के अध्यक्ष संजय कुमार बोले- पूरी तरह से फेल है जेएनयू प्रशासन

JNU हिंसा मामले में दिल्ली पुलिस ने FIR दर्ज कर ली है.

खास बातें

  • JNU में छात्रों और शिक्षकों पर हमला
  • JDU युवा इकाई के अध्यक्ष संजय कुमार का बयान
  • 'JNU की घटना दुखद और निंदनीय है'
नई दिल्ली:

दिल्ली स्थित जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (Jawaharlal Nehru University) में बीते रविवार छात्रों और शिक्षकों से जमकर मारपीट की गई. 50 से ज्यादा नकाबपोश हमलावरों ने इस वारदात को अंजाम दिया. JNU छात्रसंघ अध्यक्ष आइशी घोष (Aishe Ghosh) के सिर पर वार किया गया, जिससे वह लहूलुहान हो गईं. हमले में कई छात्रों के हाथ-पैर फ्रैक्चर हुए हैं. 34 छात्रों को AIIMS में भर्ती कराया गया था. सोमवार सुबह सभी को डिस्चार्ज कर दिया गया. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने इस मामले में मिली सभी शिकायतों को मिलाकर एक केस दर्ज किया है. क्राइम ब्रांच को केस की जांच सौंप दी गई है. पुलिस ने कुछ हमलावरों की पहचान की है. इस बीच जनता दल यूनाइटेड (JDU) की युवा इकाई के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय कुमार (Sanjay Kumar) ने JNU में हुई हिंसा की निंदा की है.

संजय कुमार ने कहा, 'JNU की घटना दुःखद और निंदनीय है. विश्वविद्यालय प्रशासन पूरी तरह फेल रहा है. इस घटना की उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिए.' लोक जनशक्ति पार्टी के नेता चिराग पासवान ने JNU मामले में कहा, 'कल रात यूनिवर्सिटी में हुई घटना देखकर मैं विचलित हूं. जेएनयू प्रशासन की प्राथमिकता बच्चों की सुरक्षा है. बच्चों के अभिभावक इस दृश्य से चिंतित होंगे. राजनैतिक दलों को विश्वविद्यालयों को राजनैतिक अखाड़ा नहीं बनाना चाहिए. विद्यार्थियों के साथ ऐसी घटना निंदनीय है.'

JNU में हिंसा के बीच छात्रों को लोहे के रॉड से पीटने का दिल-दहला देने वाला VIDEO आया सामने

बताते चलें कि JNU मामले में दिल्ली पुलिस पर भी संगीन आरोप लग रहे हैं. छात्रों का आरोप है कि घटना की सूचना देने के बावजूद पुलिस कई घंटों तक कैंपस नहीं पहुंची. घायलों को लेने पहुंची एंबुलेंस को अंदर नहीं जाने दिया गया. इन आरोपों पर पुलिस ने जवाब दिया कि बीती रात विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से हमें बुलाया गया था.

JNU में फिर बवाल- चेहरे पर नकाब बांधे लोगों ने छात्रों और टीचरों पर किया हमला, कई गंभीर रूप से घायल

पुलिस को पीसीआर कॉल के जरिए भी सूचना मिली थी. हम समय पर यूनिवर्सिटी पहुंच गए थे और स्थिति को काबू में किया. जांच अधिकारियों ने कहा कि हमने सीसीटीवी के आधार पर वारदात में शामिल कुछ लोगों की पहचान की है. जल्द आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा. देर रात पुलिस ने जब कैंपस में फ्लैग मार्च निकाला तो आक्रोशित छात्रों ने 'दिल्ली पुलिस वापस जाओ' के नारे भी लगाए.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO: JNU में हुई घटना के बाद पुलिस मुख्यालय के बाहर जुटी भीड़