झारखंड, आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र ने 1 जून से विशेष ट्रेनों को चलाने पर आपत्ति जताई: रेलवे

सूत्रों ने बताया कि मामले के समाधान के लिए रेलवे मुख्यालय में एक उच्च-स्तरीय बैठक चल रही है. उन्होंने संकेत दिए कि तीन राज्यों ने कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को लेकर चिंता जताई है और इसे ट्रेनों के परिचालन के लिए उनके विरोध का कारण माना जा रहा है.

झारखंड, आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र ने 1 जून से विशेष ट्रेनों को चलाने पर आपत्ति जताई: रेलवे

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  • विशेष यात्री ट्रेन चलने के कुछ घंटे पहले जताई आपत्ति
  • महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश और झारखंड ने जताई आपत्ति
  • मामले के समाधान के लिए रेलवे मुख्यालय में हुई उच्च-स्तरीय बैठक
नई दिल्ली:

रेलवे ने रविवार को कहा कि 200 विशेष यात्री ट्रेनों का परिचालन शुरू होने से कुछ घंटे पहले झारखंड, आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र ने इन सेवाओं के बारे में आपत्ति जाहिर की है. सूत्रों ने बताया कि मामले के समाधान के लिए रेलवे मुख्यालय में एक उच्च-स्तरीय बैठक चल रही है. उन्होंने संकेत दिए कि तीन राज्यों ने कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को लेकर चिंता जताई है और इसे ट्रेनों के परिचालन के लिए उनके विरोध का कारण माना जा रहा है.

रेलवे के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘झारखंड, आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र ने योजना के अनुसार इन ट्रेनों को चलाने या ठहराव की संख्या को लेकर आपत्ति जाहिर की है. राज्यों के साथ मामले पर विचार-विमर्श किया जा रहा है. इस संबंध में किसी भी अन्य घटनाक्रम के बारे में बताया जाएगा.' रेलवे ने एक जून से 200 विशेष यात्री ट्रेनों को चलाने का फैसला लिया है.

वहीं देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) का कहर बढ़ता जा रहा है. भारत में कोरोना से 1 लाख 82 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं वहीं 5100 से ज्यादा लोगों की अब तक मौत हो चुकी है. इस बीच बढ़ते कोरोना के मामले को देखते हुए महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने राज्य में लॉकडाउन को 30 जून तक बढ़ा दिया है. जरूरी कामों को छोड़कर पूरे राज्य में रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू जारी रहेगा. बता दें कि महाराष्ट्र कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य है.
 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com