NDTV Khabar

बरहेट विधानसभा सीट : हमेशा से JMM का मज़बूत गढ़ रही है संथाल क्षेत्र की यह सीट

पिछली बार वर्ष 2014 में हुए विधानसभा चुनाव में इस सीट पर झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के हेमंत सोरेन ने जीत हासिल की थी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बरहेट विधानसभा सीट : हमेशा से JMM का मज़बूत गढ़ रही है संथाल क्षेत्र की यह सीट

बरहेट विधानसभा सीट JMM का रहा है मज़बूत गढ़

नई दिल्ली:

बरहेट विधानसभा सीट (Barhait Assembly Seat) झारखंड राज्य के संथाल क्षेत्र का हिस्सा है, जिसकी 95 फीसदी आबादी ग्रामीण है. इस विधानसभा सीट के मतदाताओं में से 60.88 फीसदी अनुसूचित जनजाति (ST) के हैं, जबकि अनुसूचित जाति (SC) के मतदाताओं की तादाद 4.26 फीसदी है. केंद्रीय निर्वाचन आयोग, यानी Election Commission of India (ECI) द्वारा घोषित किए गए झारखंड विधानसभा चुनाव कार्यक्रम (Jharkhand Election 2019) के अनुसार इस सीट पर पांचवें और अंतिम चरण में 20 दिसंबर, 2019 को मतदान (Jharkhand Election Date) करवाया जाएगा, तथा मतगणना (Barhait Election Results) 23 दिसंबर, 2019 को होगी.

जगन्नाथपुर विधानसभा सीट : मधु कोड़ा के बाद उनकी पत्नी गीता कोड़ा को भी दो बार बनाया है विधायक


पिछली बार वर्ष 2014 में हुए विधानसभा चुनाव में इस सीट पर झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के हेमंत सोरेन ने जीत हासिल की थी, जिन्हें 46.2 प्रतिशत वोट हासिल हुए थे. इस सीट, यानी बरहेट सीट पर पिछले विधानसभा चुनाव (Barhait Assembly Elections) में भारतीय जनता पार्टी (BJP) का उम्मीदवार दूसरे, झारखंड विकास मोर्चा (JVM) का प्रत्याशी तीसरे, कांग्रेस उम्मीदवार चौथे तथा मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (CPM) का प्रत्याशी पांचवें स्थान पर रहे थे. पिछले चुनाव में इस सीट के मतदाताओं में से 2,462, यानी 1.8 फीसदी ने NOTA, यानी 'इनमें से कोई नहीं' का विकल्प चुना था.


महेशपुर विधानसभा सीट : हमेशा नया विधायक भेजती रही है विधानसभा में

टिप्पणियां

उससे पहले, वर्ष 2009 के विधानसभा चुनाव में भी इस सीट पर झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के ही हेमलाल मुर्मू ने जीत हासिल की थी, जबकि दूसरे, तीसरे, चौथे और पांचवें स्थान पर क्रमशः निर्दलीय, निर्दलीय, भारतीय जनता पार्टी (BJP) और निर्दलीय प्रत्याशी रहे थे. वर्ष 2000 में राज्य के गठन के बाद यहां बार पहली 2005 में विधानसभा चुनाव हुए थे, और तब भी इस सीट पर झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के ही थॉमस सोरेन ने जीत हासिल की थी, जबकि दूसरे, तीसरे, चौथे और पांचवें स्थान पर क्रमशः भारतीय जनता पार्टी (BJP), निर्दलीय, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (CPI) और निर्दलीय उम्मीदवार रहे थे.
 

VIDEO: हमने भ्रष्टाचार मुक्त शासन दिया है: रघुबर दास



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement