झारखंड : जुगलसलाई से जीतने वाले मंगल कालिंदी के पास हैं मात्र 30 हजार रुपये

झारखंड की जुगसलाई विधानसभा सीट से जीतने वाले झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के प्रत्याशी मंगल कालिंदी के पास 30 हजार नगद रुपये हैं. चुनाव आयोग को दिए गए शपथ पत्र के मुताबिक उनके पास 20 हजार रुपये की नगदी है और 10 हजार रुपये बैंक खाते में जमा हैं.

झारखंड : जुगलसलाई से जीतने वाले मंगल कालिंदी के पास हैं मात्र 30 हजार रुपये

जुगलसलाई से JMM की टिकट से विधायक चुने गए हैं मंगल कालिंदी

नई दिल्ली:

झारखंड की जुगसलाई विधानसभा सीट से जीतने वाले झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के प्रत्याशी मंगल कालिंदी के पास 30 हजार नगद रुपये हैं. चुनाव आयोग को दिए गए शपथ पत्र के मुताबिक उनके पास 20 हजार रुपये की नगदी है और 10 हजार रुपये बैंक खाते में जमा हैं. मंगल कालिंदी ने बताया है कि साल 2017 में ही उन्होंने माध्यमिक परीक्षा पास की है और उनके पास नाम पर न तो कोई घर है और न कोई प्लॉट है. उनके ऊपर कोई कर्ज भी नहीं है. साल 2019-20 में कुल आय उनको 2 लाख 49 हजार 8 सौ 70 रुपये हुई थी. आपको बता दें कि मंगल कालिंदी ने जुगलसलाई सीट से अपने निकटम प्रतिद्वंदी बीजेपी के मुचिराम बाउरी को हराया है. चुनाव आयोग से मिले आंकड़ों के मुताबिक मंगल कालिंदी की जीत में आजसू का भी बड़ा योगदान है जो कि बीजेपी की सहयोगी पार्टी थी और चुनाव से ठीक पहले सीटों के बंटवारे के मुद्दे पर अलग से चुनाव लड़ने का फैसला किया था.  आजसू के प्रत्याशी राम चंद्र सहिस को 46 हजार 6 सौ 92 वोटें मिली हैं. जबकि मंगल कालिंदी को 88 हजार 5 सौ 81 और बीजेपी प्रत्याशी को 66 हजार 6 सौ 47 वोटे मिली हैं.

झारखंड में गठबंधन की जीत के बाद हेमंत सोरेन के सामने हैं 5 चुनौतियां, सिर पर है 85 हजार करोड़ का कर्ज

गौरतलब है कि झारखंड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की हर कोशिश नाकाम साबित हुई है. राज्य में झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के नेतृत्व में बने झामुमो-कांग्रेस-राजद गठबंधन ने 47 सीटें जीत कर स्पष्ट बहुमत प्राप्त कर लिया है. बीजेपी को सिर्फ 25 सीटें प्राप्त हुईं. बीजेपी की सरकार में सहयोगी रही आजसू को भी गठबंधन तोड़ने का जबर्दस्त खामियाजा भुगतना पड़ा और उसे सिर्फ दो सीटों से संतोष करना पड़ा जबकि उसने 53 सीटों पर चुनाव लड़ा था. आजसू के अध्यक्ष सुदेश महतो सिल्ली से और गोमिया से लंबोदर महतो ही पार्टी की ओर से विधानसभा पहुंच सके. बीजेपी को पिछले बार के मुकाबले 12 सीटों का नुकसान झेलना पड़ा है.

गठबंधन में जाने से हुआ कांग्रेस-जेएमएम को फायदा​


 

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com