झारखंड में राज्यपाल किसे देंगी सरकार बनाने का न्यौता, सबसे बड़ी पार्टी BJP या सबसे बड़े गठबंधन JMM-कांग्रेस को?

Jharkhand Election : झारखंड से मिल रहे अभी तक के नतीजों से जाहिर हो रहा है कि बीजेपी अपनी सत्ता यहां गंवा सकती है. अब तक मिल रहे रुझानों के मुताबिक कांग्रेस-JMM और आरजेडी गठबंधन को 40 के आसपास और बीजेपी को अकेले 30 सीटें मिल रही हैं. झारखंड विकास मोर्चा को 3 और अन्य को 5 सीटें मिल सकती हैं.

झारखंड में राज्यपाल किसे देंगी सरकार बनाने का न्यौता, सबसे बड़ी पार्टी BJP या सबसे बड़े गठबंधन JMM-कांग्रेस को?

झारखंड की राज्यपाल हैं द्रौपदी मुर्मू (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

झारखंड (Jharkhand Election) से मिल रहे अभी तक के रुझान से जाहिर हो रहा है कि बीजेपी अपनी सत्ता यहां गंवा सकती है. रुझानों के मुताबिक कांग्रेस-JMM और आरजेडी गठबंधन को 40 के आसपास और बीजेपी को अकेले 30 सीटें मिल रही हैं. झारखंड विकास मोर्चा को 3 और अन्य को 5 सीटें मिल सकती हैं. इस लिहाज से देखें तो गठबंधन भले ही बहुमत के आसपास दिख रहा है लेकिन बीजेपी अब भी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभर रही है. इस लिहाज से देखें तो यह एक बड़ा सवाल खड़ा हो रहा है कि राज्यपाल सरकार बनाने के लिए किसे पहले बुलाएंगी, सबसे बड़े दल को या सबसे बड़ी पार्टी को. हालांकि यह निर्णय राज्यपाल के विवेक पर निर्भर होता है. 81 सीटों वाली झारखंड विधानसभा में बहुमत के लिए 41 सीटें चाहिए. मुख्यमंत्री रघुबर दास खुद भी जमशेदपुर पूर्वी से बागी प्रत्याशी सरयू राय से पीछे हैं. लेकिन उनका कहना है कि अभी शुरुआती रुझान हैं और जब नतीजे आएंगे तो वह ही सरकार बनाएंगे. 

harkhand Assembly Election Results: आजसू से अलग होकर BJP ने खो दी झारखंड की सत्‍ता?

कुछ दिन पहले ही महाराष्ट्र में हम देख चुके हैं कि किस तरह से विधानसभा चुनाव के बाद राज्यपाल की भूमिका अहम हो गई थी. हालांकि महाराष्ट्र की तुलना में झारखंड में स्थितियां काफी अलग हैं. महाराष्ट्र में नतीजों के बाद बीजेपी-शिवसेना के बीच सीएम पद को लेकर विवाद छिड़ा था और शिवसेना गठबंधन से अलग होकर एनसीपी-कांग्रेस के साथ चली गई थी. वहां भी बीजेपी सबसे बड़ा दल बनी थी और राज्यपाल ने सबसे पहले उसे ही सरकार बनाने का न्यौता दिया था. हालांकि बाद में वहां पर शिवसेना ने एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाई. इस सरकार बनने के पीछे सुप्रीम कोर्ट का फैसला भी अहम था.

Jharkhand Election Result 2019: क्या BJP को 'राष्ट्रीय मुद्दों' वाली रणनीति ही ले डूबी?

बात करें राज्यपाल की भूमिका की तो आम तौर पर ऐसी स्थिति में उसी पक्ष को सरकार बनाने  के लिए बुलाया जाता है जो स्थाई सरकार दे सके और इस लिहाज से झारखंड में कांग्रेस-जेएमएम और आरजेडी गठबंधन का पलड़ा बीजेपी से भारी दिख रहा है. इससे बड़ी बात यह गठबंधन चुनाव से पहले हो गया था.

रूझान पर अभी स्पष्ट प्रतिक्रिया देना उचित नहीं: रघुवर दास​

Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com