Jharkhand Election Results 2019: झारखंड चुनाव में किसी को नहीं मिला बहुमत तो ये बन सकते हैं किंगमेकर!

JVM पार्टी के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी (Babulal Marandi) ने कहा है कि वह जनादेश को स्वीकार करेंगे और नतीजे आने के बाद ही तय करेंगे कि उनकी पार्टी को किसके साथ जाना है.

Jharkhand Election Results 2019: झारखंड चुनाव में किसी को नहीं मिला बहुमत तो ये बन सकते हैं किंगमेकर!

झारखंड में वोटों की गिनती जारी है.

खास बातें

  • किसके सिर सजेगा झारखंड की सत्ता का ताज?
  • पूर्ण बहुमत न मिला तो कौन होगा किंगमेकर?
  • क्या BJP के साथ जाएंगे सुदेश महतो?
रांची:

झारखंड विधानसभा चुनाव (Jharkhand Elections Result 2019) के नतीजों के रुझान आने शुरू हो चुके हैं. सभी 81 सीटों के रुझान आ चुके हैं. एक समय पर यहां भी लगभग हरियाणा जैसी स्थिति बनती नजर आ रही थी. फिलहाल नतीजे झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM), कांग्रेस (Congress) और राष्ट्रीय जनता दल (RJD) गठबंधन के पक्ष में बनते दिख रहे हैं. गठबंधन करीब 41 सीटों पर आगे चल रहा है. भारतीय जनता पार्टी (BJP) 28 सीटों पर आगे है. ऑल झारखंड स्टूडेंट यूनियन (AJSU) 4 सीटों, झारखंड विकास मोर्चा (JVM) 3 सीटों और 4 सीटों पर अन्य आगे चल रहे हैं. अंकों का यह खेल फिलहाल उतार-चढ़ाव में है.

माना जा रहा है कि अंतिम नतीजों में अगर किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिलता है तो यहां JVM और AJSU किंगमेकर की भूमिका में नजर आ सकते हैं. JVM पार्टी के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी (Babulal Marandi) ने कहा है कि वह जनादेश को स्वीकार करेंगे और नतीजे आने के बाद ही तय करेंगे कि उनकी पार्टी को किसके साथ जाना है.

झारखंड विधानसभा चुनाव : हेमंत सोरेन के विवादित बयान पर बीजेपी पहुंची चुनाव आयोग

सियासी गलियारों में चर्चा है कि मरांडी JMM-कांग्रेस और RJD के गठबंधन के साथ जा सकते हैं. उन्होंने बीते दिन पत्रकारों से बातचीत में BJP के साथ जाने की खबरों पर विराम लगाते हुए कहा था कि पार्टी ने उन्हें राजनीतिक रूप से खत्म करने की कोशिश की है. BJP के साथ जाने का सवाल ही पैदा नहीं होता.

Poll of Exit Polls: झारखंड में बीजेपी सत्ता से हो सकती है बाहर, कांग्रेस-JMM बना सकती हैं सरकार

दूसरी ओर कयास लगाए जा रहे हैं कि AJSU के मुखिया सुदेश महतो (Sudesh Mahto) BJP के साथ जा सकते हैं. वह रघुबर दास सरकार में बीजेपी के साथी रह चुके हैं. इस चुनाव में तालमेल नहीं बन पाने के कारण उन्होंने गठबंधन से अलग होने का फैसला किया था.

दो सीटों से चुनाव लड़ने वाले हेमंत सोरेन क्या बनेंगे मुख्यमंत्री या अधूरा रह जाएगा सपना?

यह पहली बार है कि बीजेपी और AJSU अलग-अलग चुनावी मैदान में उतरे हैं. साल 2000 में झारखंड के गठन के बाद से ही दोनों पार्टियां एक साथ चुनाव लड़ती आ रही थीं. AJSU प्रमुख सुदेश महतो राज्य के डिप्टी सीएम रह चुके हैं. वह सिल्ली विधानसभा सीट से विधायक हैं और वर्तमान में भी वह इसी सीट से चुनावी मैदान में उतरे हैं.

Newsbeep

VIDEO: इस बार झारखंड की जनता का मूड एकतरफा लग रहा था: तेजस्वी यादव

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com