NDTV Khabar

झारखंड मॉब लिंचिंग: अब तक 11 लोगों को किया गया गिरफ्तार, डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप, SIT कर रही है जांच

परिवार ने आरोप लगाया कि पुलिस से कई बार अपील करने के बाद भी तबरेज को उचित इलाज मुहैया नहीं करवाया गया. अस्पताल ले जाने से पहले ही उसकी मौत हो गई थी, इसिलए उन्हें उससे मिलने नहीं दिया गया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
झारखंड मॉब लिंचिंग: अब तक 11 लोगों को किया गया गिरफ्तार, डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप, SIT कर रही है जांच

पुलिस हिरासत में घटना के चार दिन बाद तबरेज की मौत हो गई थी.

खास बातें

  1. चोरी के आरोप में की थी पिटाई
  2. जबरन लगवाए 'जय श्री राम' के नारे
  3. चार दिन बाद पुलिस हिरासत में हुई मौत
रांची:

झारखंड में 24 वर्षीय युवक पर भीड़ के हमले के मामले में अभी तक 11 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है, जबकि दो पुलिस अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया. मोटर साइकिल चोरी के आरोपी शम्स तबरेज को एक पोल से बांधा गया और फिर उसे बुरी तरह से पीटा गया. इसके साथ ही जबरन उससे 'जय श्री राम' और 'जय हनुमान' के नारे लगवाये गए. उसके बेहोश होने के बाद उसे प्रशासन को सौंप दिया गया, पुलिस हिरासत में चार दिन बाद उसकी मौत हो गई. मामले की जांच के लिए गठित की गई एसआईटी के प्रमुख को बुधवार तक गृह सचिव और मुख्य सचिव को रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा गया है.

एक रिश्तेदार ने बताया कि तबरेज और उनके दोस्त जमशेदपुर से अपने घर सरायकेला-खरसवान के करसोवा जा रहे थे, उनके घर से मुश्किल से पांच किलोमीटर दूर ही उन पर हमला कर दिया गया. तबरेज की पत्नी शाहिस्ता परवीन ने बताया, 'उसे बेरहमी से इसलिए मारा गया, क्योंकि वह मुस्लिम था. मेरे ससुराल में कोई नहीं है. मेरे पति ही मेरी सपोर्ट थे. मैं न्याय चाहती हूं.'

रवीश का ब्लॉग: भीड़ की ऐसी हिंसा की घटनाएं थम क्यों नहीं रहीं?


उसके परिवार ने आरोप लगाया कि पुलिस से कई बार अपील करने के बाद भी तबरेज को उचित इलाज मुहैया नहीं करवाया गया. अस्पताल ले जाने से पहले ही उसकी मौत हो गई थी, इसिलए उन्हें उससे मिलने नहीं दिया गया. उन्होंने इस मामले में शामिल सभी पुलिसकर्मी और डॉक्टरों सहित आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है, जिनसे अभी पूछताछ नहीं की गई.

झारखंड में मुस्लिम युवक की पीट-पीटकर हत्या के मामले में पांच गिरफ्तार, दो पुलिस अधिकारी सस्पेंड

एसपी कार्तिक एस ने बताया, 'हम सभी एंगल से देख रहे हैं. उनके परिवार के सदस्यों ने अपनी शिकायत में कुछ अज्ञात बदमाशों का जिक्र किया है. उसके आधार पर हम पहले ही ग्यारह लोगों को गिरफ्तार कर चुके हैं, जिनमें पप्पू मंडल नाम का एक व्यक्ति भी शामिल है.' राज्य में विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने मृतक की पत्नी के लिए 25 लाख रुपए मुआवजा और सरकारी नौकरी की मांग की है. 

झारखंड में भीड़ ने मुस्लिम युवक की पीट पीटकर की हत्या, 'जय श्रीराम' का नारा भी लगवाया, देखें VIDEO

टिप्पणियां

पूरे देश में इस घटना के बाद पैदा हुए गुस्से के बाद पुलिस ने स्वीकार किया है कि इस मामले में उनकी तरफ से चूक हुई है और एसआईटी का गठन किया गया है. इसके अलावा दो अधिकारी चंद्रमोहन और बिपिन बिहारी को "उच्च अधिकारियों को मुद्दे की गंभीरता की रिपोर्ट नहीं करना" के आरोप में निलंबित कर दिया गया. सरकार के बयान में कहा गया है कि इसके साथ ही इन पर आरोप लगाया गया है कि वे उसी दिन लिंचिंग का मामला दर्ज करने में नाकाम रहे. 

Video: रवीश कुमार का प्राइम टाइम : झारखंड लिंचिंग - कहां गए सुप्रीम कोर्ट के लिंचिंग पर दिशानिर्देश?



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement