'जामिया' के बाहर बोलीं JNUSU अध्यक्ष आयशी घोष, कहा- इस लड़ाई में कश्मीर को नहीं भूल सकते

हाल ही में जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में हुई हिंसा में छात्रसंघ अध्यक्ष आयशी घोष (Aishe Ghosh) भी गंभीर रूप से घायल हुई थीं. उनके सिर पर करीब 15 टांके आए थे.

'जामिया' के बाहर बोलीं JNUSU अध्यक्ष आयशी घोष, कहा- इस लड़ाई में कश्मीर को नहीं भूल सकते

आयशी घोष JNUSU अध्यक्ष हैं. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • 5 जनवरी को JNU में हुई थी हिंसा
  • JNUSU अध्यक्ष हैं आयशी
  • आयशी घोष भी हुई थीं घायल
नई दिल्ली:

हाल ही में जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में हुई हिंसा में छात्रसंघ अध्यक्ष आयशी घोष (Aishe Ghosh) भी गंभीर रूप से घायल हुई थीं. उनके सिर पर करीब 15 टांके आए थे. फिलहाल आयशी ठीक हैं और बुधवार को उन्होंने जामिया मिल्लिया इस्लामिया (Jamia Millia Islamia) के बाहर लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि कश्मीर में जो कुछ भी हो रहा है, उसे भूल नहीं सकते. आयशी घोष ने कहा, 'हम इस लड़ाई में कश्मीर का पीछा और उनकी बात नहीं भूल सकते. उनके साथ जो हो रहा है, कहीं न कहीं वहीं से इस सरकार ने शुरू किया था कि हमारे संविधान को हमसे छीना जाए.'

JNU में 5 जनवरी को हुई हिंसा मामले में दिल्ली पुलिस ने बीते सोमवार आयशी घोष और दो अन्य लोगों से पूछताछ की थी. क्राइम ब्रांच इस मामले की जांच कर रही है. जांच टीम ने हिंसा मामले में बीते शुक्रवार 9 संदिग्धों की तस्वीरें जारी की थीं, इनमें आयशी घोष भी नजर आ रही हैं. गौरतलब है कि 5 जनवरी को 50 के करीब लाठी-डंडों से लैस नकाबपोश बदमाश यूनिवर्सिटी में दाखिल हुए और उन्होंने लेफ्ट समर्थित छात्रों को बेरहमी से पीटा. आरोपियों ने छात्रों को ही नहीं बल्कि शिक्षकों पर भी हमला बोला. पीड़ितों ने ABVP पदाधिकारियों पर हमला करने का आरोप लगाया था. दूसरी ओर ABVP ने आरोप लगाया कि लेफ्ट के छात्रों ने उनके कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट की थी. उनकी ओर से भी पुलिस को शिकायत दी गई है. क्राइम ब्रांच की टीम दोनों पक्षों की शिकायतों पर जांच कर रही है.

JNU हिंसा मामले में हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस से कहा- व्हाट्सऐप ग्रुप मेंबर के मोबाइल फोन सीज कीजिए

बताते चलें कि JNU हिंसा को लेकर विपक्षी दलों के नेताओं और बॉलीवुड हस्तियों ने मोदी सरकार पर हमला बोला था. कांग्रेस और लेफ्ट ने इस केस की उच्चस्तरीय जांच की मांग की. मुंबई समेत कई शहरों में युवा JNU के पीड़ित छात्रों के समर्थन में खड़े दिखे. अभिनेत्री दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) अपनी फिल्म छपाक की रिलीज से पहले JNU गईं और आयशी घोष से मिलीं. इस मुलाकात के बाद बीजेपी नेताओं ने सोशल मीडिया के जरिए 'छपाक' का बॉयकॉट करना शुरू कर दिया. इतना ही नहीं, इसके लिए दीपिका को खूब ट्रोल भी किया गया.

VIDEO: JNU में हुई घटना के बाद पुलिस मुख्यालय के बाहर जुटी भीड़

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com