NDTV Khabar

रोते हुए बोली ब्लू व्हेल गेम की शिकार लड़की, मैं झील में नहीं कूदी तो मेरी मम्मी मर जाएगी

उसकी बाजू पर पुलिस ने देखा कि चाकू से ब्लू व्हेल उकेरा हुआ है. कल आधी रात के आसपास हुई इस घटना में किशोरी को बचा लिया गया है.

98 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
रोते हुए बोली ब्लू व्हेल गेम की शिकार लड़की, मैं झील में नहीं कूदी तो मेरी मम्मी मर जाएगी

जोधपुर : आधी रात को पहाड़ी से झील में कूदी युवती, हाथ पर उकेरा हुआ था 'ब्लू व्हेल'...

खास बातें

  1. राजस्थान के जोधपुर में एक लड़की झील में कूद गई
  2. पुलिस और गोताखोर ने बचा लिया
  3. बोली, टास्क पूरा करना था...
नई दिल्ली: राजस्थान के जोधपुर से ब्लू व्हेल (Blue Whale) का 'एक और शिकार' होते होते बचा. 17 साल की एक किशोरी पहाड़ी की चोटी से झील में कूद गई. उसकी बाजू पर पुलिस ने देखा कि चाकू से ब्लू व्हेल उकेरा हुआ है. कल आधी रात के आसपास हुई इस घटना में किशोरी को बचा लिया गया है.

पढ़ें-ब्लू व्हेल के फेर में जान गंवाने जा रही थी महिला बैंक कर्मचारी, पुलिस ने पकड़ा

लड़की झील के आसपास कुछ देर तक स्कटूर से चक्कर लगाती देखी गई थी. गोताखोरों और पुलिसकर्मियों ने उसे बचा लिया और पैरेंट्स के सुपुर्द कर दिया. किशोरी बीएसएफ के जवान की बेटी है और सोमवार रात घर से यह कहते हुए निकल गई थी कि बाजार जा रही है.

लड़की को बचाने वालों ने कहा कि यह लड़की रो रही थी कि मैं अगर डुबकी नहीं लगाऊंगी तो मेरी मां मर जाएगी. पुलिस यह पता लगाने की कोशिश कर रही है इसका एडमिन कौन है?

पढ़ें-मध्यप्रदेश में भी 'ब्‍लू व्‍हेल' गेम से मौत, ट्रेन के सामने खड़े होने का छात्र ने लिया चैलेंज, गई जान

माता पिता ने उसके काफी देर तक न लौटने पर उसे फोन किया लेकिन पाया कि वह फोन कहीं छोड़ गई है क्योंकि किसी अजनबी ने फोन पर रिप्लाई किया. इसके बाद परिवार खोजबीन में जुट गया और इसी दौरान लड़की को झील के आसपास देखा गया. कुछ लोगों ने पुलिस को अलर्ट किया और पुलिस भी ठीक उसी समय वहां पहुंच गई जब लड़की चोटी से कूदी. पुलिस आवाज देती रही लेकिन लडकी कूद चुकी थी. 

पढ़ें-ब्लू व्हेल के चक्कर में एक और छात्र ने कर ली खुदकुशी

पुलिस ऑफिसर लेखराज सिहाग ने बताया कि उन्होंने और गोताखोर ओम प्रकाश ने मिलकर लड़की को झील से निकाला. जब उससे यह सब करने का कारण पूछा गया तो उसका कहना था कि उसे 'टास्क पूरा करना था.' 

सिहाग ने एनडीटीवी को बताया- हमें बीती रात 11 बजे सूचना मिली कि एक लड़की कल्याण झील के पास ड्राइव कर रही थी. हम मौके पर पहुंचे और उसे आवाज लगाई लेकिन वह  दौड़कर चोटी तक जा पहुंची और कूद गई. कुछ देर में हमने उसे बाहर निकाल लिया. 

पढ़ें-स्कूल के छात्र ने अपना हाथ काटा, पुलिस ने कहा- ‘ब्लू व्हेल’ का मामला नहीं

देश के कई राज्यों से ब्लू व्हेल गेम को खेल रहे बच्चों के सुसाइड करने की घटनाएं सामने आ रही हैं. इस खेल और इन घटनाओं का संदिग्ध संबंध भी कहीं न कहीं पाया जा रहा है. दुनिया भर में ब्लू व्हेल गेम और सुइसाइड से जुड़े करीब 100 मामले सामने आए हैं. 

पुडुचेरी और मध्य प्रदेश में भी हो चुकी हैं घटनाएं..
कुछ ही दिन पहले पुडुचेरी में ब्लू व्हेल चुनौती के अंतिम चरण को कथित तौर पर पूरा करने वाली 21 वर्षीय एक महिला को बचा लिया गया. पुलिस अधीक्षक ने बताया कि महिला के दोस्त से व्हाट्स एप ग्रुप पर एक संदेश मिलने के बाद तड़के पुलिस ने उसे गांधी थिडल के निकट एक समुद्र तट पर एक सड़क से ढूंढ़ निकाला.

VIDEO: ब्लू व्हेल गेम को लेकर क्या सोचते हैं लोग...
 
 


संदेश में महिला के असामान्य व्यवहार करने और रात से घर नहीं लौटने की बात कही गयी थी. डीजीपी ने बताया कि इलाके के लोगों से संपर्क बनाए रखने के लिए सब इंस्पेक्टर कीर्ति ने व्हाटस एप ग्रुप बना रखा है. उन्होंने बताया कि बचायी गयी महिला एक बैंक कर्मचारी है.

ऐसे ही एक अन्य मामले में गेम 'ब्‍लू व्‍हेल' की वजह से मध्य प्रदेश के दमोह में एक छात्र ने कथित तौर पर आत्महत्या कर ली. छात्र का नाम सात्विक पांडे बताया जा रहा है. 11वीं में पढ़ने वाले सात्विक शनिवार रात घर से अकेला निकला और ट्रेन के सामने आकर खुदकुशी कर ली.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement