'हम डरकर नहीं हटेंगे पीछे', गौरी लंकेश की हत्या के विरोध में पत्रकारों ने बुलंद की आवाज

बेंगलुरु से भोपाल तक और पटना से तिरुवनंतपुरम तक, गौरी लंकेश की हत्या के विरोध में देश के अलग-अलग शहरों में पत्रकार सड़कों पर उतर आए.

'हम डरकर नहीं हटेंगे पीछे', गौरी लंकेश की हत्या के विरोध में पत्रकारों ने बुलंद की आवाज

गौरी लंकेश की हत्या के विरोध में दिल्ली के प्रेस क्लब में पत्रकारों ने जताया रोष

नई दिल्ली:

गौरी लंकेश की हत्या के विरोध में अलग-अलग शहरों में देशभर के पत्रकार उमड़ पड़े. पत्रकारों का साथ देने के लिए सामाजिक संगठनों और राजनीतिक दलों के नेता भी आए. सबने माना ये लोकतंत्र के लिए खतरे की घंटी है. बेंगलुरु से भोपाल तक और पटना से तिरुवनंतपुरम तक, गौरी लंकेश की हत्या के विरोध में अलग-अलग शहरों में पत्रकार सड़कों पर उतर आए. दिल्ली के प्रेस क्लब में दोपहर से पत्रकार, अलग-अलग संगठनों के लोग और नेता जुटने लगे. महाराष्ट्र के कोल्हापुर से आईं गोविंद पनसारे की बहू ने बताया कि कैसे उस पनसारे हत्याकांड की जांच ठहरी हुई है. मेधा पनसारे ने एनडीटीवी से कहा कि हाईकोर्ट की पहल के बाद ही  हत्याकांड की जांच कुछ आगे बढ़ पाई. अब इस मामले में गिरफ्तार किये गए दो आरोपियों में एक को जमानत मिल गई है और दूसरे ने भी जमानत की अर्जी दी है. मेधा ने कहा कि जिस तरह से जांच चल रही है, उससे कानून की पकड़ कमजोर पड़ती नजर आ रही है.

यह भी पढ़ें: गौरी लंकेश नहीं मारी गईं, समाज की संवेदना और करुणा मर गई

दिल्ली में प्रेस क्लब के खचाखच भरे परिसर में एनडीटीवी के रवीश कुमार ने इस बात पर ध्यान खींचा कि गौरी लंकेश की मौत पर बहुत अभद्र भाषा में छींटाकशी कर रहे लोगों को किस तरह देश की सत्ता का मौन समर्थन हासिल है. जाने-माने पत्रकार और 'द वायर' के संपादक सिद्धार्थ वरदराजन ने कहा कि विरोध चाहे जितना हो, हम डर के पीछे न हटें. हिंद स्वराज के संस्थापक योगेंद्र यादव ने कहा, ये व्यक्ति की नहीं, विचार की हत्या है.

VIDEO : गौरी लंकेश की हत्या सवालों के घेरे में?
पत्रकारों के इस हुजूम में लेफ्ट के कई नेता भी नजर आए. यहां सीताराम येचुरी, डी राजा और मोहम्मद सलीम दिखे. गौरी लंकेश की हत्या के साथ एक आजाद आवाज थम गई है. ये एहसास सबको है कि कहीं न कहीं ये दूसरों को भी डराने की कोशिश है, लेकिन देश भर में पत्रकारों का जुटा ये हुजूम बताता है कि हमारे यहां लोकतंत्र की जड़ें भी गहरी हैं और इसे बचाए रखने के लिए लड़ने का जज्बा भी पूरा है.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com