Bihar Elections: बीजेपी महासचिव भूपेंद्र यादव बोले, 'चिराग पासवान की LJP ने धोखा दिया, NDA को हुआ नुकसान'

NDA बिहार विधानसभा चुनाव में लोकसभा के अपने प्रदर्शन को दोहरा क्यों नहीं पाया, इस पर यादव ने कहा कि हर चुनाव अलग होता है और राज्य तथा केंद्र के चुनाव अलग-अलग मुद्दों पर लड़े जाते हैं. इसके अलावा कुछ स्थानीय कारण भी थे.

Bihar Elections: बीजेपी महासचिव भूपेंद्र यादव बोले, 'चिराग पासवान की LJP ने धोखा दिया, NDA को हुआ नुकसान'

बीजेपी नेता भूपेंद्र यादव बोले, चिराग पासवान की पार्टी एलजेपी ने धोखा दिया

नई दिल्ली:

Bihar Assembly elections Result 2020: बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly elections 2020) में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) की जीत के एक दिन बाद भाजपा के महासचिव और प्रदेश प्रभारी भूपेंद्र यादव (Bhupender Yadav) ने बुधवार को कहा कि चुनाव में चिराग पासवान (Chirag Paswan) की लोजपा (LJP) ने धोखा दिया और उनके द्वारा फैलाए गए भ्रम के कारण NDA को कुछ नुकसान हुआ.यादव ने कहा कि चुनाव में  NDA की जीत की सबसे बड़ी वजह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विश्वसनीयता रही. वरिष्ठ केंद्रीय मंत्री अमित शाह और पार्टी अध्यक्ष जे पी नड्डा की मौजूदगी ने भी पार्टी की सफलता में अहम योगदान दिया.लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के बारे में यादव ने कहा कि पार्टी ने अपनी साख गंवा दी और उसकी राजनीति पर सवालिया निशान लगे हैं.

केसी त्‍यागी का दावा, 'LJP प्रत्‍याशी चुनाव नहीं लड़ते तो तेजस्‍वी, तेजप्रताप दोनों हार जाते'

उन्होंने कहा, ‘‘लोजपा ने खुद अपना रास्ता चुना और एक तरीके से उसने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) को धोखा दिया. बिहार के लोगों ने राज्य की राजनीति में उनकी महत्ता को बता दिया.''यादव ने कहा कि तमाम भ्रम के बावजूद बिहार के लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व और उनकी विश्वसनीयता के प्रति आस्था प्रकट की और यह बड़ी उपलब्धि है कि NDA को राज्य में चौथी बार सफलता मिली है. उन्होंने कहा, ‘‘राज्य में NDA की जीत की सबसे बड़ी वजह मोदीजी का नेतृत्व और उनकी विश्वसनीयता रही.'

बिहार में बीजेपी और नीतीश कुमार का राज बरकरार, तेजस्वी की आरजेडी बनी सबसे बड़ी पार्टी

NDA बिहार विधानसभा चुनाव में लोकसभा के अपने प्रदर्शन को दोहरा क्यों नहीं पाया, इस पर यादव ने कहा कि हर चुनाव अलग होता है और राज्य तथा केंद्र के चुनाव अलग-अलग मुद्दों पर लड़े जाते हैं. इसके अलावा कुछ स्थानीय कारण भी थे. उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में मतदाताओं की अलग प्राथमिकता होती है और वहां स्थानीय मुद्दे होते हैं जबकि राज्य की राजनीति के आयाम भी राष्ट्रीय राजनीति से अलग होते हैं.उन्होंने कहा, ‘‘सामाजिक समीकरणों के हिसाब से हमारा गठबंधन मजबूत स्थिति में था और NDA सरकार ने समूचे राज्य में विकास कार्य किए थे. लेकिन लगातार झूठ बोलकर लोजपा ने भ्रम फैलाया और इससे पहले चरण में भाजपा-जद(यू) को नुकसान हुआ.''यादव ने कहा कि राज्य में कुछ स्थानीय मुद्दे भी थे जिसके कारण NDA को कुछ कम सीटें मिलीं, लेकिन गठबंधन राज्य में स्पष्ट बहुमत पाने में सफल रहा .

जद(यू) के अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाने के क्या कारण हो सकते हैं, इस सवाल पर यादव ने कहा कि बिहार में तीन बार NDA की सरकार रही और विकास के आधार पर चौथे कार्यकाल के लिए जनादेश मांगा गया. यादव ने कहा, ‘‘जद(यू) ने अच्छे से चुनाव लड़ा लेकिन उन्हें लोजपा द्वारा फैलाए गए भ्रम की कीमत चुकानी पड़ी. लोजपा ने माहौल खराब किया, जो कि उन्हें नहीं करना चाहिए था. वे NDA का हिस्सा रहे थे. उनकी पार्टी के मंत्री भी थे और लोकसभा चुनाव में गठबंधन से उन्हें फायदा भी हुआ था.''राज्य में कमान में बदलाव की संभावनाओं को तवज्जो नहीं देते हुए यादव ने कहा, ‘‘NDA को पूर्ण बहुमत मिला है और हम गठबंधन धर्म का सम्मान करते हैं ... गठबंधन में हम सब समान हैं . ''तेजस्वी यादव और RJD के प्रदर्शन पर भाजपा नेता ने कहा कि उन्हें विपक्ष में बैठने का जनादेश मिला है और उन्हें इसका सम्मान करना चाहिए और अपनी भूमिका का निर्वहन करना चाहिए. राज्य में वाम दलों के प्रदर्शन पर उन्होंने कहा, ‘‘राज्य में वाम दलों का उभार चिंता की बात है क्योंकि वे वर्ग संघर्ष में यकीन रखते हैं, जिससे राज्य में सौहार्द्र बिगड़ सकता है.''


JDU के वोट काटने में LJP की बड़ी भूमिका!

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)