राजीव गांधी फाउंडेशन और चीन को लेकर बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सोनिया गांधी से पूछे 10 सवाल

कांग्रेस के खिलाफ हमलावर नड्डा ने कहा कि कांग्रेस को चीन के साथ अपने कथित संबंधों और चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के साथ किए गए समझौता ज्ञापन पर स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए.

राजीव गांधी फाउंडेशन और चीन को लेकर बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सोनिया गांधी से पूछे 10 सवाल

नई दिल्ली:

भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने शनिवार को चीन और राजीव गांधी फाउंडेशन के कथित संबंधों को लेकर कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी से 10 सवाल पूछे. नड्डा ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘चीन और कोरोना वायरस संकट की आड़ में उन सवालों से नहीं बचना चाहिए जिनका जवाब देश जानना चाहता है.''पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीन के साथ जारी गतिरोध के बीच नड्डा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश पूरी तरह सुरक्षित है. उन्होंने कहा ‘‘ सशस्त्र बल भारत की रक्षा करने, देश को सुरक्षित रखने में पूरी तरह सक्षम हैं.''

नड्डा ने आरोप लगाया कि सोनिया गांधी की अध्यक्षता वाले राजीव गांधी फाउंडेशन को 2005 से 2006 के बीच लगातार अनुदान राशि मिली. इसके अलावा ‘‘टैक्स हैवेन'' कहे जाने वाले देश लक्जेमबर्ग से 2006 से 2009 के बीच तथा व्यवसायिक हितों वाले गैर सरकारी संगठनों से भी इस फाउंडेशन को अनुदान राशि मिली है.

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय हितों को ‘‘तिलांजली'' दे दी गई और एक परिवार द्वारा संचालित फाउंडेशन ने अनुदान राशि स्वीकार की.कांग्रेस ने शुक्रवार को इन आरोपों को भाजपा की ‘‘चालाकी'' और उसका ‘‘द्वेषपूर्ण खेल'' करार दिया तथा कहा था कि चीन ने सीमा पर भारतीय जमीन पर कथित तौर पर जो कब्जा किया है, यह उससे जनता का ध्यान भटकाने की कोशिश है.

कांग्रेस के खिलाफ हमलावर नड्डा ने कहा कि कांग्रेस को चीन के साथ अपने कथित संबंधों और चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के साथ किए गए समझौता ज्ञापन पर स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि चीन के साथ भारत का व्यापार घाटा 2004 में 1.1 अरब डॉलर का था जो बढ़कर 2013-14 में 36.2 अरब डॉलर हो गया. उन्होंने सवाल किया कि क्या इसके एवज में कांग्रेस को लाभ मिला था. साल 2004 से 2014 के बीच केंद्र में कांग्रेस के नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की सरकार थी.


Video: रविशंकर प्रसाद का कांग्रेस पर हमला, कहा, 'कांग्रेस को चीन से प्रेम क्यों?'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)