Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

हिमाचली से ज्यादा बिहारी हैं बीजेपी के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा

जेपी नड्डा को बीजेपी का राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित कर दिया गया है. पार्टी की ओर से उनके नाम का औपचारिक ऐलान कर दिया गया है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
हिमाचली से ज्यादा बिहारी हैं बीजेपी के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा

जेपी नड्डा बने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष

खास बातें

  1. पटना में हुआ था जेपी नड्डा का जन्म
  2. पटना विश्वविद्यालय में लड़ा था चुनाव
  3. जेपी आंदोलन से हुए थे प्रभावित
नई दिल्ली:

जगत प्रकाश नड्डा (Jagat Prakash Nadda) यानी जेपी नड्डा को बीजेपी का राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित कर दिया गया है. पार्टी की ओर से उनके नाम का औपचारिक ऐलान कर दिया गया है. जेपी नड्डा को निर्विरोध पार्टी का अध्यक्ष चुना गया है. हालांकि बीजेपी ने संगठन चुनाव की औपचारिकता पूरी करने के लिए चुनाव की अधिसूचना भी जारी की थी. लेकिन पहले से ही तय था कि  कोई भी दूसरा उम्मीदवार उनके खिलाफ खड़ा नहीं होगा. जेपी नड्डा के समर्थन में 21 राज्यों के प्रदेश अध्यक्ष नामांकन पत्र चुनाव अधिकारी राधा मोहन सिंह के सामने पेश किया. जिन राज्यों के प्रदेश अध्यक्ष नड्डा के समर्थन में नामंकन पत्र पेश किया उनमें दिल्ली, एमपी, उत्तराखंड, बिहार, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, महाराष्ट्र, हिमाचल जैसे राज्य शामिल हैं. नड्डा के चुनाव के साथ ही अमित शाह का अध्यक्ष के तौर पर साढ़े पांच साल का कार्यकाल ख़त्म हो गया. वहीं बीजेपी की कमान संभालने के साथ ही जेपी नड्डा के सामने दिल्ली और बिहार विधानसभा चुनाव जैसी बड़ी चुनौतियां होंगी. वहीं कहा जाता है कि जेपी नड्डा पीएम मोदी और अमित शाह के काफी करीबी हैं. उन्होंने अपने करियर की शुरुआत छात्र नेता के तौर पर की थी और वह आरएसएस के काफी सक्रिय सदस्य रहे हैं. नड्डा को राज्य और केंद्रीय संगठन में काम करने का लंबा अनुभव है.

हिमाचल प्रदेश को अपना राजनीतिक कार्यक्षेेत्र बनाने वाले जेपी नड्डा का जन्म बिहार में हुआ था.  2 दिसंबर 1960 को पटना में जन्मे नड्डा पर जेपी आंदोलन का गहरा असर हुआ था और बाद में वह वह अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद  (ABVP) में शामिल हो गए थे. जेपी नड्डा के पिता पटना विश्वविद्यालय में कुलपति थे और उन्होंने बीए की पढ़ाई वहीं की. 1977 में जेपी नड्डा ने एबीवीपी (ABVP) के टिकट पर चुनाव लड़ा और पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ के सचिव चुने गए. इसके बाद उन्होंने हिमाचल विश्वविद्यालय से कानून की पढ़ाई की. यहीं पर उनकी पत्नी इतिहास पढ़ाती हैं. 


जेपी नड्डा का राजनीतिक करियर
1993 से लेकर 2002 तक हिमाचल प्रदेश विधानसभा के सदस्य, 1998 से लेकर 2003 तक हिमाचल प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री, 2008  से लेकर 2010 तक धूमल सरकार में मंत्री, कई अहम मंत्रालय संभाले, अप्रैल 2012 में राज्यसभा सांसद चुने गए, 2014  से लेकर 2019 तक मोदी सरकार में स्वास्थ्य मंत्री, जून 2019 को  बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष चुने गए. 

नड्डा के सामने चुनौतियां
जेपी नड्डा ऐसे समय अध्यक्ष बने हैं जब बीजेपी को दिल्ली और बिहार विधानसभा चुनाव का सामना करना है. इसके अलावा बीजेपी के हाथ से कई राज्यों की सत्ता जा चुकी है और अब उत्तर प्रदेश का चुनाव भी आने वाला है. 

टिप्पणियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... IND vs BAN: शेफाली वर्मा ने ताबड़तोड़ छक्के जड़कर तोड़ा बांग्लादेश का 'गुरूर', देखें पारी का पूरा Video

Advertisement