BJP के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा की राहुल गांधी को चुनौती, CAA के बारे में 10 वाक्य बोलकर दिखाएं

बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जे.पी. नड्डा शनिवार को नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर कांग्रेस और विपक्ष पर हमलावर हुए.

BJP के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा की राहुल गांधी को चुनौती, CAA के बारे में 10 वाक्य बोलकर दिखाएं

बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष ने कांग्रेस पार्टी से पूछा सवाल, पूछा-आखिर इस कानून में खराबी क्या है

नई दिल्ली:

बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जे.पी. नड्डा शनिवार को नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर कांग्रेस और विपक्ष पर हमलावर हुए. उन्होंने पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को एक बार फिर चुनौती देते हुए कहा कि वह CAA के बारे में 10 वाक्य बोल कर दिखाएं. उन्होंने कहा, "राहुल सिर्फ लोगों में भ्रम और अफवाह फैलाते हैं." पार्टी के राष्ट्रीय कार्यालय में पाकिस्तान से आए दलित ओट समाज के लोगों को सबोधित करते हुए नड्डा ने कहा, "मोदी जी ने आपकी राहें आसान कर दी हैं. अब आप इस देश के नागरिक हैं और आपको वे सारे अधिकार प्राप्त हैं, जो देश के अन्य नागरिकों को हैं." 

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा, CAA लागू करने से इनकार नहीं कर सकता कोई राज्य, देखें VIDEO

नड्डा ने कहा, "भारत की जनता ने हमें ताकत दी, और इस काम के लिए मोदीजी ने और अमित शाहजी ने हिम्मत दिखाई. पाकिस्तान में हिंदुओं के साथ क्या हो रहा है, इससे सभी परिचित हैं. 1947 में बंटवारे के समय लाखों लोग मारे गए." उन्होंने कहा, "गांधीजी, नेहरूजी और मनमोहन सिंह ने शरणार्थियों की नागरिकता की पैरवी की. लेकिन जब मोदीजी ने पहल की और पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बंगलादेश से आए लोगों को नागरिकता दी, तो कांग्रेस भड़क गई है. अब कांग्रेस लोगों को भड़का रही है. गुमराह कर रही है. लोगों के बीच गलतबयानी कर रही है कि उनकी नागरिकता चली जाएगी."

राहुल गांधी की दस पुश्तें खत्म हो जाएं तब भी सावरकर नहीं बन सकते : स्मृति ईरानी

Newsbeep

बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष ने कांग्रेस पार्टी से प्रश्न करते हुए कहा, "जिन लोगों को इस कानून से नागरिकता मिली है, उनमें से 70 फीसदी तक लोग दलित हैं. कांग्रेस जबाव दे कि आखिर इस कानून में खराबी क्या है. कांग्रेस के लिए वोट पहले है और देश बाद में, लेकिन हमारे लिए देश पहले है. " 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video : शाहीन बाग़ जैसे प्रदर्शनों से कौन बोर हो गया है?