जेपी नड्डा ने ममता बनर्जी से कहा-‘‘विद्वेष और अहम’’रवीन्द्रनाथ टैगोर की संस्कृति नहीं है

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज विश्व भारती के शताब्दी समारोह को संबोधित किया. इस कार्यक्रम में केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक और बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनकड़ ने हिस्सा लिया.

जेपी नड्डा ने ममता बनर्जी से कहा-‘‘विद्वेष और अहम’’रवीन्द्रनाथ टैगोर की संस्कृति नहीं है

बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

बंगाल में बीजेपी और TMC के बीच जारी बयानबाजी लगातार बढ़ता ही जा रहा है. बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा(JP Nadda) ने गुरुवार को ममता बनर्जी ( Mamata Banerjee) पर हमला करते हुए कहा कि उन्होंने ‘‘राजनीतिक विद्वेष'' और ‘‘अपने अहम'' के कारण विश्व भारती विश्वविद्यालय के शताब्दी समारोह का ‘‘बहिष्कार'' किया. हालांकि ममता बनर्जी ने कहा कि उन्हें शताब्दी समारोह के लिए इस केंद्रीय विश्वविद्यालय के अधिकारियों की ओर से आमंत्रित नहीं किया गया था. उन्होंने कहा कि विश्व भारती के मौजूदा अधिकारी रवीन्द्रनाथ टैगोर की विरासत को आगे जाने में कोई महत्वपूर्ण भूमिका नहीं निभा रहे हैं.

Newsbeep

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज विश्व भारती के शताब्दी समारोह को संबोधित किया. इस कार्यक्रम में केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक और बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनकड़ ने हिस्सा लिया. नड्डा ने सिलसिलेवार ट्वीट कर ममता पर हमला किया और कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर और पश्चिम बंगाल की संस्कृति, साहित्य और दर्शन में गहरी आस्था है. उन्होंने कहा, ‘‘अब बंगाल ममता के अहंकार को तार-तार करेगा और भाजपा को ‘सोनार बंगाल' बनाने का मौक़ा देगा.'' उल्लेखनीय है कि पश्चिम बंगाल में कि अगले साल मार्च-अप्रैल में विधानसभा चुनाव होना है. भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि विश्व भारती विश्वविद्यालय दुनियाभर में बंगाल की पहचान है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री विश्व भारती के शताब्दी समारोह से जुड़े. परंतु सिर्फ राजनीतिक विद्वेष के कारण ममता बनर्जी इसमें शामिल नहीं हुईं. उन्होंने अपने अहम के लिए आज गुरुदेव और देश के संघीय ढाँचे का अपमान किया है.'' नड्डा ने कहा, ‘‘ममता बनर्जी जिस द्वेष, अहंकार, झूठ और अत्याचार के पथ पर हैं, वह गुरुदेव रवींद्रनाथ और स्वामी विवेकानंद की संस्कृति नहीं, वह सुभाष चंद्र बोस और श्यामा प्रसाद मुखर्जी की संस्कृति नहीं, वह बंगाल की संस्कृति नहीं. यह ममता और तृणमूल कांग्रेस की संस्कृति है, जो बंगाल को बार-बार शर्मसार करती है.'' उल्लेखनीय है कि पश्चिम बंगाल में भाजपा ने अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर अपनी पूरी ताकत झोंक दी है, ताकि ममता को सत्ता से बेदखल किया जा सके. भाजपा की ओर से पेश चुनौती के मद्देनजर ममता भी राज्य का दौरा कर रही हैं.