जेपी मॉर्गन ने फेमा और एफडीआई मानदंडों का उल्लंघन करके आम्रपाली में निवेश किया: SC

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि संकटग्रस्त आम्रपाली ने विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (फेमा) और एफडीआई मानदंडों का उल्लंघन करते हुए बहुराष्ट्रीय कंपनी जेपी मॉर्गन से 85 करोड़ रुपये का निवेश प्राप्त किया.

जेपी मॉर्गन ने फेमा और एफडीआई मानदंडों का उल्लंघन करके आम्रपाली में निवेश किया: SC

सुप्रीम कोर्ट

खास बातें

  • पीठ ने कहा- घर खरीददारों का धन डाइवर्ट कर दिया गया है
  • 'फेमा और एफडीआई मानदंडों का उल्लंघन किया गया'
  • 'खरीददारों के साथ गंभीर धोखा किया गया'
नई दिल्ली:

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने मंगलवार को कहा कि संकटग्रस्त आम्रपाली (Amrapali) ने विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (फेमा) और एफडीआई मानदंडों का उल्लंघन करते हुए बहुराष्ट्रीय कंपनी जेपी मॉर्गन से 85 करोड़ रुपये का निवेश प्राप्त किया. शीर्ष अदालत ने धन शोधन और फेमा उल्लंघन के प्रथम दृष्टया आरोप की जांच करने का आदेश दिया. न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा और न्यायमूर्ति यू यू ललित की पीठ ने कहा कि फॉरेंसिक ऑडिटर्स की रिपोर्ट से यह स्पष्ट है कि नोएडा और ग्रेटर नोएडा के अधिकारियों और बैंकों के अधिकारियों के साथ सक्रिय मिलीभगत से खरीदारों के साथ गंभीर धोखा किया गया.

मध्य प्रदेश विधानसभा में BJP नेता गोपाल भार्गव बोले- हमारे नंबर-1 और नंबर-2 कह देंगे तो एक दिन भी नहीं चलेगी ये सरकार

 पीठ ने कहा, 'घर खरीदारों का धन डाइवर्ट कर दिया गया है. निदेशकों ने फर्जी कंपनियां बनाकर, प्रोफेशनल फीस वसूल करके, फर्जी बिल बनाकर, कम कीमत दिखाकर फ्लैट बेचकर, अत्यधिक ब्रोकरेज का भुगतान आदि करके धन डाइवर्ट किया है. उन्होंने फेमा और एफडीआई मानदंडों का उल्लंघन करके जेपी मॉर्गन से निवेश प्राप्त किया है.'

Newsbeep

कर्नाटक सरकार गिरने पर बोलीं मायावती, लोकतंत्र के इतिहास में काला अध्याय

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इसमें कहा गया है कि जेपी मॉर्गन की आवश्यकताओं के अनुरूप समूह के इक्विटी शेयर अत्यधिक कीमत पर खरीदे गए और आम्रपाली जोडियक डेवलपर्स डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड ने घर खरीदारों का धन डाइवर्ट किया है. (इनपुट:भाषा)