NDTV Khabar

GHI को लेकर कपिल सिब्बल ने पीएम मोदी पर कसा तंज, कहा- राजनीति पर कम और बच्चों पर ज्यादा ध्यान दीजिए

कपिल सिब्बल ने ट्वीट कर कहा, 'मोदी जी राजनीति पर कम और हमारे बच्चों पर ज्यादा ध्यान दीजिए. वे हमारा भविष्य हैं.'

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
GHI को लेकर कपिल सिब्बल ने पीएम मोदी पर कसा तंज, कहा- राजनीति पर कम और बच्चों पर ज्यादा ध्यान दीजिए

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत के 102वें स्थान पर पहुंचा
  2. इस पर कपिल सिब्बल ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसा
  3. कहा, 'मोदी जी राजनीति पर कम और हमारे बच्चों पर ज्यादा ध्यान दीजिए
नई दिल्ली:

वैश्विक भूख सूचकांक (ग्लोबल हंगर इंडेक्स) में भारत के 102वें स्थान पर पहुंच जाने से जुड़ी खबर को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए कहा कि उन्हें राजनीति पर कम और बच्चों पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए. कपिल सिब्बल ने ट्वीट कर कहा, 'मोदी जी राजनीति पर कम और हमारे बच्चों पर ज्यादा ध्यान दीजिए. वे हमारा भविष्य हैं.' इसके साथ ही सिब्बल ने दावा किया, 'वैश्विक भूख सूचकांक में भारत फिसल गया है. 2010 में भारत 95वें स्थान पर था और 2019 में 102वें स्थान पर है. 93 फीसदी बच्चों को न्यूनतम आहार नहीं मिलता है.'

नेपाल, बांग्लादेश, पाकिस्तान से भी पिछड़ गया भारत, भुखमरी के मामले में 117 मुल्कों में 102वें स्थान पर पहुंचा

बता दें, भारत 117 देशों के ग्लोबल हंगर इंडेक्स में 102वें स्थान पर चला गया है. हालांकि, सूची में दर्ज किए गए मुल्कों की तादाद हर साल घटती-बढ़ती रही है. वर्ष 2014 में भारत 76 मुल्कों की फेहरिस्त में 55वें पायदान पर था. वर्ष 2017 में बनी 119 मुल्कों की फेहरिस्त में उसे 100वां पायदान हासिल हुआ था, और वर्ष 2018 में वह 119 देशों की सूची में 103वें स्थान पर रहा था. इस साल की रिपोर्ट में 117 देशों के सैम्पलों का आकलन किया गया था, और भारत को 102वां स्थान मिला.


कपिल सिब्बल ने PM मोदी से कहा- तस्वीरें कम खिंचवाइए, अभिजीत बनर्जी को सुनिए और काम पर लग जाइए

टिप्पणियां

ग्लोबल हंगर इंडेक्स रिपोर्ट के अनुसार, 'इंडीकेटरों के इस कॉम्बिनेशन से भुखमरी को मापने के कई फायदे हैं... GHI फॉर्मूले में शामिल किए गए इंडीकेटरों से कैलोरिक कमी तथा कुपोषण का भी पता चलता है... कम पोषण वाले इंडीकेटर से पूरी आबादी की पोषण स्थिति का अंदाज़ा मिलता है, जबकि बच्चों के लिए खासतौर पर शामिल किए गए इंडीकेटर आबादी के एक खास हिस्से में पोषण की स्थिति का बखान करते हैं...'

VIDEO: रवीश कुमार का प्राइम टाइम: TISS के प्रोफेसर ने की अभिजीत बनर्जी के मॉडल की आलोचना



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement