करण जौहर ने कहा - न तो ड्रग्स लेता हूं और न ही इसको बढ़ावा देता हूं

फिल्म निर्माता-निर्देशक ने कहा कि अनुभव चोपड़ा उनकी कंपनी धर्मा प्रोडक्शंस में कर्मचारी नहीं थे, हालांकि उन्होंने 2011 और 2013 के बीच स्वतंत्र रूप से कंपनी के साथ दो प्रोजेक्ट पर काम किया था.

करण जौहर ने कहा - न तो ड्रग्स लेता हूं और न ही इसको बढ़ावा देता हूं

करण जौहर (फाइल फोटो)

मुंबई:

NCB की तरफ से बॉलीवुड में जारी ड्रग्स केस के जांच के दौरान एक के बाद एक खुलासे किये जा रहे हैं. इस बीच फिल्म निर्माता करण जौहर ने शुक्रवार को कहा कि कई मीडिया / समाचार चैनल समाचार रिपोर्टों को प्रसारित कर रहे हैं कि क्षितिज प्रसाद और अनुभव चोपड़ा मेरे 'सहयोगी' / 'करीबी सहयोगी' हैं.  मैं एक बात साफ कर देना चाहता हूं कि मैं इन व्यक्तियों को व्यक्तिगत रूप से नहीं जानता हूं और इन दोनों में से कोई  कोई भी मेरा 'सहायक' या 'करीबी सहयोगी' नहीं है.


फिल्म निर्माता-निर्देशक ने कहा कि अनुभव चोपड़ा उनकी कंपनी धर्मा प्रोडक्शंस में कर्मचारी नहीं थे, हालांकि उन्होंने 2011 और 2013 के बीच स्वतंत्र रूप से कंपनी के साथ दो प्रोजेक्ट पर काम किया था. साथ ही उन्होंने कहा कि क्षितिज रवि प्रसाद नवंबर 2019 में धर्मा प्रोडक्शंस से जुड़ी कंपनी धर्मा प्रोडक्शन से जुड़े थे, जो एक प्रोजेक्ट के लिए कांट्रैक्ट बेसिस पर एक्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर्स में से एक थे.

करण जौहर ने कहा कि न तो मैं और न ही धर्मा प्रोडक्शंस इसके लिए जिम्मेदार है कि लोग अपने निजी जीवन में क्या करते हैं. ये आरोप धर्म प्रोडक्शंस से संबंधित नहीं हैं.उन्होंने पिछले साल जुलाई में अपने घर पर आयोजित एक पार्टी में ड्रग्स के सेवन की खबरों का खंडन किया उन्होंने कहा, "इन निंदनीय और दुर्भावनापूर्ण बयानों, समाचार लेखों और समाचारों की कतरनों ने मुझे, मेरे परिवार और उनके सहयोगियों और धर्मा प्रोडक्शंस को अनावश्यक रूप से प्रभावित किया है. "

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

सपा नेता ने कंगना रनौत को दी सलाह, तो एक्ट्रेस बोलीं- यह इंडस्ट्री सिर्फ करण जौहर उसके पापा ने नहीं...

करण जौहर ने कहा कि मैं एक बार फिर से स्पष्ट रूप से कहना चाहूंगा कि मैं नशीले पदार्थों का सेवन नहीं करता हूं और मैं ऐसे किसी भी ड्रग्स के सेवन को बढ़ावा या प्रोत्साहित नहीं करता हूं.उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों में, मीडिया ने विकृत और झूठे आरोपों का सहारा लिया है. मुझे उम्मीद है कि मीडिया के सदस्य संयम बरतेंगे. अन्यथा मेरे पास कोई विकल्प नहीं बचेगा, अंतत: मुझे कानूनी अधिकारों का प्रयोग करना होगा.