करिश्मा कपूर पहुंचीं सुप्रीम कोर्ट तो वरिष्ठ वकील ने कहा- माई लार्ड, कोर्ट में 'स्टार पावर' है

करिश्मा कपूर पहुंचीं सुप्रीम कोर्ट तो वरिष्ठ वकील ने कहा- माई लार्ड, कोर्ट में 'स्टार पावर' है

नई दिल्ली:

सुप्रीम कोर्ट की 12 नंबर कोर्ट खचाखच भरी थी। हर कोई हैरान था कि आखिर इतनी भीड क्यों है? खुद अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी भी अपने मामले की सुनवाई के बाद बाहर निकलने के लिए जूझते नजर आए। वहीं, अपने केस के लिए कोर्ट में बड़ी मुश्किल से घुसे वरिष्ठ वकील दुष्यंत दवे को इसका पता चल गया था। उन्होंने सीधे जस्टिस एके सिकरी को कहा कि माई लार्ड, आपकी कोर्ट में स्टार पावर है, मुझे दिक्कत हुई। जस्टिस सिकरी ने कहा कि पता नहीं क्यों 'इनको' यहां लाए हैं, हमने तो चेंबर में सुनवाई के लिए कहा था।

जज साहब के 'इनके' का मतलब करिश्मा कपूर से था जो कोर्ट रूम में मौजूद थीं और हर कोई उन्हें देखना चाहता था। इस मामले की सुनवाई 8 अप्रैल को होगी। मंगलवार को करिश्मा कपूर सुबह 10 बजे ही सुप्रीम कोर्ट पहुच गयी थीं। सुनवाई शुरू होने से पहले उन्हें सुप्रीम कोर्ट के एक ऑफिस में बैठाया गया। उसके बाद वह कोर्ट रूम में पेश हुईं। करीब आधा घंटे वह कोर्ट रूम में रही।
 


पिछली सुनवाई पर सुप्रीम कोर्ट ने करिश्मा कपूर और उनके पति को तलाक संबंधी मामले में निर्देश देते हुए कहा था कि आप दोनों को आपसी बातचीत कर समझौता कर लेना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि मामला उतना बडा नहीं है इसलिए इस विवाद का आपसी बातचीत से हल निकाला जा सकता है। कोर्ट ने उक्त दोनों को उनके समक्ष पेश होने का निर्देश दिया था।

पहले मामले की सुनवाई के दौरान संजय कपूर के वकील ने अदालत के समक्ष कहा था कि वह अपने बच्चों की परवरिश के लिए 10 लाख रुपये देने को तैयार हैं। इस बाबत उन्होंने 14 करोड़ रुपये का एक बॉन्ड लिया है जिससे 10 लाख रुपये महीने का ब्याज बच्चों को मिलेगा। 20 साल में बॉन्ड पूरा हो जाएगा।

करिश्मा कपूर की ओर से दलील दी गई थी कि 14 करोड़ में से 7 करोड़ की राशि संजय कपूर ने बैंक से लोन ली है। अगर ये लोन नहीं चुका पाते हैं तो बच्चों के भविष्य का क्या होगा। करिश्मा की ओर से दलील दी गई कि उन्हें अपने लिए संजय कपूर से एक रुपया भी नहीं चाहिए। वह अपना खर्चा खुद उठा सकती है। मगर उन्हें अपने बच्चों के भविष्य के लिए रुपयों की जरूरत पडेगी।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

सुप्रीम कोर्ट ने उक्त दलीलों को सुनने के बाद कहा था  कि वे दोनों इस मामले को आपस में सुलझा कर बताए कि इस विवाद का क्या हल निकाला जा सकता है। जिस पर दोनों पक्षों के वकीलों ने कहा कि करिश्मा कपूर व संजय कपूर इस मामले में समझौते के लिए तैयार हैं।

दरअसल संजय कपूर ने अपनी पत्नी अभिनेत्री करिश्मा कपूर से तलाक के मामले की सुनवाई मुंबई की बांद्रा कोर्ट से दिल्ली की अदालत में स्थानांतरित कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की हुई है। अपनी याचिका में बिजनेसमैन संजय कपूर ने कहा है कि मुंबई में उनकी जान को खतरा है इसलिए उनके मामले को दिल्ली ट्रांसफर किया जाए।