कर्नाटक में लैबों में कोरोनो वायरस टेस्ट के रेट में की गई कटौती

Karnataka coronavirus: सरकार द्वारा निजी प्रयोगशालाओं को भेजे जाने वाले नमूनों के टेस्ट का रेट अब अधिकतम प्रति सैम्पल 1200 रुपये और निजी सैम्पल क रेट 1600 रुपये होगा

कर्नाटक में लैबों में कोरोनो वायरस टेस्ट के रेट में की गई कटौती

प्रतीकात्मक फोटो.

बेंगलुरु:

Karnataka coronavirus Testing: कर्नाटक सरकार ने COVID-19 के लिए RT- PCR टेस्ट के रेट कम कर दिए हैं. इसे कोरोना वायरस का पता लगाने के लिए सबसे विश्वसनीय टेस्ट मानते हुए सरकार ने इस टेस्ट के रेट घटाने की बात कही है. प्राइवेट लैबों में सरकार द्वारा भेजे जाने वाले नमूनों का प्रति सैम्पल रेट 1200 रुपये और निजी सैम्पल का रेट अधिकतम 1600 रुपये होगा.     

जुलाई में सरकार द्वारा भेजे जाने वाले सैम्पल के टेस्ट का रेट 2000 रुपये और निजी सैम्पल का रेट 3000 रुपये था. अगस्त में यह रेट घटाकर क्रमश: 1500 रुपये और 2500 रुपये कर दिए गए थे.         

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को एक मीटिंग में कहा था कि कर्नाटक सहित देश के सात राज्यों में  कोरोना के सबसे ज्यादा केस आ रहे हैं. इन राज्यों में आरटी पीसीआर टेस्ट बढ़ाए जाने चाहिए. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

Delhi Coronavirus Update: दिल्ली में ढाई माह बाद एक दिन में सबसे ज्यादा मरीजों की मौत

राज्य के हेल्थ कमिश्नर पंकज पांडे ने एनडीटीवी से कहा कि कर्नाटक में प्रतिदिन कोविड-19 के टेस्ट 65000 से बढ़ाकर एक लाख करने की योजना है. इसके तहत 60000 RT-PCR और  40,000 रैपिड एंटीजन टेस्ट किए जाएंगे. उन्होंने बताया कि एक लाख टेस्ट पर प्रतिदिन करीब पांच करोड़ रुपये व्यय होंगे. उन्होंने कहा कि राज्य में समुचित संख्या में लैब हैं जो इस काम में मदद करें.